Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू: प्रॉविडेंट फंड से जुड़े सवाल-जवाब

प्रकाशित Sat, 24, 2014 पर 09:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रॉविडेंड फंड में निवेश, कर्मचारियों के लिए एक बढ़िया निवेश विकल्प क्यों हैं। वहीं पीएफ में निवेश के क्या हैं फायदे बता रहे हैं टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया।


सुभाष लखोटिया का कहना है कि प्रॉविडेंट फंड में निवेश करना एक बहुत अच्छा विकल्प है। यह एक तरह की रिटायरमेंट प्लानिंग है। इसलिए इन पैसों को जितना हो सके नहीं निकालना चाहिए। ऐसे में जब आप रिटायर होंगे तो पाएंगे कि एक अच्छी खासी रकम आपके पीएफ खाते में होगी।


सवाल: क्या पीएफ की वजह से इनकम टैक्स लग सकता है?


जवाब: कर्मचारी के वेतन से 12 फीसदी से ज्यादा योगदान कर्मचारी की आय माना जाता है। ऐसी स्थिति में इनकम टैक्स लगता है। वहीं पीएफ खाते में सरकार की तय दर से ज्यादा ब्याज भी कर्मचारी की आय में जोड़ा जाता है। जिसपर टैक्स लागू होता है।


सवाल: मैं 5 साल पहले एक कंपनी में काम करता था। इस कंपनी में मैंने 5 साल से ज्यादा अपनी सेवाएं दी हैं। लेकिन नौकरी छोड़ने के 5 साल बाद तक मैंने अपना पीएफ नहीं निकाला है। हालांकि अब पीएफ निकाल लिया है, क्या पीएफ से मिलने वाली राशि पर टैक्स लगेगा?


जवाब: आपने 5 साल से ज्यादा एक कंपनी में काम किया। वहीं 5 साल पीएफ का पैसा नहीं निकाला है। ऐसी स्थिति में बता दें कि 5 साल पूरे होने के बाद पीएफ खाते से पैसे निकालने पर कोई टैक्स नहीं लगता है।


सवाल: मैं एमएनसी की नौकरी छोड़कर एक स्कूल में डायरेक्ट के तौर पर नियुक्त होने वाला हूं। नई नौकरी में ईपीएफ की सुविधा नहीं है, टैक्स काटने के बाद कंपनी नक भुगतान कर देगी। ऐसे में क्या मैं बैंक में पीपीएफ खाता खोलने की सोच रहा हूं। वहीं क्या ईपीएफ के पैसे पीपीएफ में ट्रांसफर कर सकते हैं, पुरानी नौकरी के दौरान ईपीएफ में 10 लाख रुपये जमा हैं?


जवाब: ईपीएफ खाते से पीपीएफ खाते में पैसा ट्रांसफर करने का प्रावधान नहीं है। ईपीएफ से पैसा तब निकालें जब उसपर टैक्स नहीं लगेगा। 5 साल बाद ईपीएफ से पैसा निकालते हैं तो किसी प्रकार के टैक्स का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। वहीं ईपीएफ से पैसा निकालकर टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश करना बेहतर रहेगा।


वीडियो देखें