Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनी: इंश्योरेंस पर फ्रॉड कॉल से बचें

प्रकाशित Fri, 30, 2014 पर 09:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मायइंश्योरेंसक्लब डॉट कॉम के को-फाउंडर मनोज असवानी बता रहे हैं इंश्योरेंस में निवेश करते समय किन बातों का ख्याल रखें। वहीं कौन सी पॉलिसी लेना रहेगा सबसे बेहतर।


सवाल: मेरे पास 3 एलआईसी की पॉलिसी है। पिछले 8-10 साल से ये पॉलिसी मेरे पास हैं। पिछले दिनों मुझे एक फोन आया, फोन करने वाला खुद को इंश्योरेंस सर्विस मैनेजर बता रहा था, जो आईआरडीए से जुड़ा हुआ है। उन्होंने मुझे अपनी एलआईसी की पॉलिसी का एनओसी लेने को कहा है। ताकि पॉलिसी का बोनस सीधे तौर पर मिल सके। मांगी गई जानकारी नहीं देने पर मेरी फाइल रिजेक्ट करने की बात भी कही गई। वहीं पॉलिसी पर जो बोनस मुझे 1 लाख रुपये का मिलना चाहिए था, वह केवल 87,000 ही मिला। ऐसे में इस फोन में कितनी सच्चाई है और क्या एनओसी जैसी कोई प्रक्रिया होती है?


जवाब: सबसे पहले आप ये जान लें कि कोई इंश्योरेंस कंपनी, आईआरडीए फोन पर आपसे बात करके आपकी पॉलिसी को नियंत्रित नहीं कर सकता है। आईआरडीए का भी पॉलिसी के बोनस पर कोई नियंत्रण नहीं है। ऐसे फोन कॉल के झांसे में नहीं फंसे. वहीं पॉलिसी को लेकर कोई भी असमंजस है तो सीधे अपनी इंश्योरेंस कंपनी से बात करें।


सवाल: मैंने 50 लाख रुपये का टर्म प्लान लिया है। फॉर्न भरते वक्त ब्लड प्रेशर पर टिक किया था। लेकिन मेडिकल डॉक्युमेंट में चेस्ट पेन लिखा है। लेकिन मुझे कोई दिल की बीमारी नहीं है, ना ही कोई इलाज चल रहा है। मेडिकल टेस्ट के दौरान मामूली सा चेस्ट पेन था, जो सामान्य था। लेकिन डॉक्टर ने डॉक्युमेंट पर चेस्ट पेन लिख दिया, ऐसे में अब क्या करना चाहिए? 


जवाब: इस संबंध में अपनी इंश्योरेंस कंपनी को जानकारी दें, वहीं कंपनी के हिदायतों के मुताबिक आगे की प्रक्रिया करें। लेकिन इंश्योरेंस जब आप लेते हैं तो इसका एप्लीकेशन फॉर्म खुद आपको भरना चाहिए। इंश्योरेंस कंपनी पॉलिसीधारक की जानकारी और मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर पॉलिसी देने का निर्णय लेगी। ऐसे में हो सकता है ऐसी स्थिति में आपकी पॉलिसी का प्रीमियम बढ़ जाए।


सवाल: मेरी उम्र 37 साल और सालाना आय 11.5 लाख रुपये है। परिवार में पत्नी और 1.5 साल का बेटा हैं। 20,000 रुपये प्रति महीने की एसआईपी कर रहा हूं। वहीं 1 करोड़ रुपये का इंश्योरेंस है, साथ ही 10 लाख की नकदी भी बैंक खाते में है। इसके अलावा एक होमलोन है जिसकी 21,000 रुपये ईएमआई जाती है। बच्चे की पढ़ाई और रिटायरमेंट के लिए 4 करोड़ रुपये की जरूरत है। मैं एसआईपी में 8,000 रुपये और निवेश कर सकता हूं, जो डेट फंड में निवेश करना चाहता हूं। पीपीएफ और एनपीएस में निवेश करना कैसा रहेगा?


जवाब: एनपीएस एक तरह का पेंशन प्लान है। वहीं 37 साल में 1 करोड़ का इंश्योरेंस ले लिया है, यह काफी सराहनीय है। ऐसे में बाकी के पैसे दूसरे विकल्पों में निवेश कर सकते हैं। पीपीएफ, एनपीएस में निवेश कर सकते हैं। कुछ पैसे पीपीएफ, कुछ एनपीएस में डालें। 10 लाख रुपये की नकदी से होमलोन की प्रीपेमेंट कर सकते हैं।


वीडियो देखें