Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू से जानें टैक्स बचत के आसान उपाय

प्रकाशित Sat, 31, 2014 पर 17:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स का नाम सुनते ही हम परेशान हो जाते हैं कि पता नहीं क्या क्या करना होगा। किन कागजों को भरना होगा और कौनसी औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी। लेकिन अब परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आपकी मदद करने के लिए आ गए हैं टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया। आज टैक्स गुरू से जानेंगे टैक्स से जुड़ी समस्याओं के हल। जानिए टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया जी से टैक्स से जुड़े सभी सवालों के जवाब और टैक्स बचत के आसान तरीके।


सवाल: लोन पर मकान खरीदा है लेकिन इसका पजेशन अभी तक नहीं मिला है। क्या इस होम लोन पर टैक्स छूट का फायदा उठा सकता है?


सुभाष लखोटिया: निर्माणाधीन घर के लोन के ब्याज पर कोई छूट नहीं मिलती। घर का पजेशन मिलने के बाद ही लोन के ब्याज पर टैक्स छूट का फ्यादा मिलेगा। सेक्शन 80सी के तहत आपको लोन रीपेमेंट पर टैक्स छूट मिलेगी। 


सवाल: शेयर ट्रेडिंग से शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन होता है, तो शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन के केस में किस तरह के खर्चों पर छूट मिलती है?


सुभाष लखोटिया: शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन कमाने में हुए सभी वास्तवित खर्च पर छूट मिलेगी। शेयर की कीमत के साथ ही निवेश के लिए लिये लोन के ब्याज पर भी छूट मिलेगी। इसके अलावा बड़े पैमाने पर ट्रेडिंग के लिए स्टाफ रखा है तो उसका खर्च भी बतौर छूट मिलेगा। लेकिन अगर कम ट्रेडिंग की और स्टाफ का खर्च दिखाएंगे तो छूट नहीं मिलेगी।


सवाल: कंपनी एलटीसी का रीइंबर्समेंट करती है। दुबई का एयर टिकट रीइंबर्स करवाने पर क्या टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटिया: एयर टिकट दिखाने पर भी पूरे एलटीसी रीइंबर्समेंट पर टैक्स लगेगा। विदेश यात्रा करने पर एलटीसी रीइंबर्समेंट पर टैक्स छूट नहीं है। सिर्फ भारत में यात्रा करने पर ही एलटीसी रीइंबर्समेंट पर टैक्स छूट मिलेगी। 


सवाल: बेटी की शादी के लिए चेक से गहने खरीदे। बेटी यूएसए में रहती है। क्या गहने विदेश ले जाने पर टैक्स की देनदारी बनेगी?


सुभाष लखोटिया: बेटी को गहने विदेश ले जाने में कोई परेशानी नहीं होगी। लेकिन बेहतर होगा कि पासपोर्ट पर इस बारे में लिखवा लें।


सवाल: फॉर्म 26एस में हुई गडबड़ी को कैसे सुधारें?


सुभाष लखोटिया: फॉर्म 26एस में हुई गडबड़ी को सुधारने के लिए आपको अपने पुरानी कंपनी के मालिक को पत्र लिखना होगा और पत्र की एक कॉपी कमिश्नर इनकम टैक्स को भी भेजनी होगी। इस तरह आप अपनी टैक्स में हुई गलती को सुधार सकते हैं।


सवाल: किराए से इनकम को जोड़ते वक्त कौन-कौन से खर्चों पर टैक्स छूट मिलती है। साथ ही, क्या ये सभी खर्चे घर और कमर्शियल प्रॉपर्टी से किराए पर अलग-अलग होते हैं?


सुभाष लखोटिया: आईटी कानून के तहत किराए से इनकम जोड़ते वक्त कुछ खर्चों पर टैक्स छूट मिलती है। किराए के घर से या कमर्शियल प्रॉपर्टी से, टैक्स छूट एक समान होती है। किराए का 30 फीसदी मरम्मत आदि के लिए काट सकते हैं। इस छूट के लिए किसी तरह के प्रूफ की जरूरत नहीं होती। साथ ही हाउस टैक्स या प्रॉपर्टी टैक्स के भुगतान पर छूट होती है। इसके अलावा प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लोन लिया हो तो लोन के ब्याज पर भी छूट मिलती है।


सवाल: नौकरी बदलने पर पुरानी कंपनी में 6000 रुपये बतौर नोटिस पेमेंट दिया। नई कंपनी से उन्हें इस पर रीइंबर्समेंट नहीं मिला। क्या इस रकम पर टैक्स छूट मिलेगी?


सुभाष लखोटिया: कंपनी को बतौर नोटिस पेमेंट दी गई रकम पर किसी तरह की टैक्स छूट नहीं मिलेगी। 


सवाल: बेटी के नाम से पीपीएफ अकाउंट खोलना है। क्या इसके लिए पॅन कार्ड होना जरूरी है?


सुभाष लखोटिया: आप पॅन कार्ड के बैगेर भी पीपीएफ अकाउंट खोल सकते हैं। लेकिन बेहतर होगा कि अगर आप पॅन नंबर ले लें। 


वीडियो देखें