Moneycontrol » समाचार » बीमा

दूर करें इंश्योरेंस से जुड़ी गलतफहमी

प्रकाशित Wed, 11, 2014 पर 15:19  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पैसे कमाना तो कठिन होता ही है, लेकिन उससे भी ज्यादा जरूरी है समझना कि कमाई को बढ़ाया कैसे जाए, कैसे बचत के जरिए आप बड़े या छोटे लक्ष्य पूरे करने के लिए लाखों- करोड़ों जोड़ सकते हैं, लेकिन इसके लिए जरूरी है निवेश से जुड़े हर पहलू को समझना, कहां कब पैसे लगाना है, पोर्टफोलियो में क्या जोड़ना है, क्या निकालना है, आपको पैसे से जुड़ी हर जरूरी जानकारी देने के लिए रूंगटा सिक्योरिटीज के हर्षवर्धन रूंगटा ने बहुत सी उपयोगी जानकारी दी है।


अकसर लोग इंश्योरेंस लेकर मिससेलिंग में फंस जाते हैं, या फिर इंश्योरेंस को रिटर्न के चक्कर में ले बैठते हैं, इंश्योरेंस लेने के लिए ग्राहकों के मन में कई सवाल होते हैं जिनके सही जवाब ना मिलने के चलते इंश्योरेंस की सही महत्ता पता नहीं चल पाती है और बाद में ग्राहक इंश्योरेंस को ही गलत प्रोडक्ट समझ लेते हैं। आज हम बताएंगे कि इंश्योंरेंस के सही फायदे क्या हैं और इसके लिए किन बातों का ख्याल रखनी जरूरी होता है। 


सबसे पहली गलतफहमी, इंश्योरेंस टैक्स बचाने का सबसे बढ़िया विकल्प है, फाइनेंशियल ईयर के आखिर में सबसे ज्यादा सैलरीड प्रोफेशनल लोग टैक्स बचाने के लिए इंश्योरेंस ले लेते हैं, और ये सबसे बड़ी गलती है, क्योंकि सही मायने में इंश्योरेंस को सिर्फ और सिर्फ रिस्क कवर करने के लिए लेना चाहिए, टैक्स बचत के लिए तो बिल्कुल नहीं लेना चाहिए।


इंश्योरेंस से जुड़ी दूसरी गलतफहमी, कि लोग अपनी पत्नी और बच्चे के नाम पर उनके बेहतर भविष्य का सोचकर इंश्योरेंस ले लेते हैं, खासकर चाइल्ड प्लान जैसे यूलिप प्लान। ध्यान रखिए इंश्योरेंस खासकर लाइफ इंश्योरेंस उन्हें लेना चाहिए जिनकी आमदनी पर उनका पूरा परिवार निर्भर है, ना कि डिपेंडेंट्स के लिए, यानि अगर आप अपने घर में अकेले कमाने वाले हैं तो आप अपने लिए इंश्योरेंस जरूर लीजिए।


तीसरी गलतफहमी, मेरी कंपनी जो मुझे हेल्थ कवर दे रही है वो मेरे लिए काफी है, और इसके अलावा मुझे हेल्थ कवर की कोई जरूरत नहीं है, यहां आपको बता दें कि ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस जब तक आपके लिए काफी है, जब तक आप उस नौकरी में बने हुए हैं। मान लीजिए कि 40 साल की उम्र में आपने नौकरी छोड़ी, तो आपका कवर भी नौकरी के साथ छूट जाएगा, और फिर इस उम्र में आपको हेल्थ कवर के लिए ज्यादा खर्च करना होगा, इसलिए कंपनी के ग्रुप कवर के साथ अपने लिए अलग से हेल्थ कवर जरूर लें।


इंश्योरेंस से जुड़ी चौथी गलतफहमी- टर्म इंश्योरेंस बेकार पॉलिसी है, एक तो पैसे दो ऊपर से कोई रिटर्न भी नहीं, लेकिन यहां आपको जानना जरूरी है कि लाइफ कवर के लिए इससे बढ़िया और सस्ता कोई दूसरा ऑप्शन नहीं है, इसलिए लाइफ कवर के लिए यूलिप और दूसरे जटिल प्रोडेक्ट लेने की कोई जरूरत नहीं है, लाइफ कवर के लिए टर्म प्लान को ही चुनें।


एक और गलतफहमी- मैं तो अभी सिंगल हूं, फिर मुझे हेल्थ या लाइफ इंश्योरेंस की क्या जरूरत है, हां दरअसल इस केस में आपको इंश्योरेंस की कोई जरूरत नहीं हैं, लेकिन अगर कोई मेडिकल इमरजेंसी आती है, या फिर कोई स्वास्थ्य संबंधित बीमारी के बारे में पता चलता है तो जिस तरह से अस्पताल के खर्चे लगातार बढ़ रहें है यहां आपकी सेविंग खत्म होने में जरा भी समय नहीं लगेगा, इसलिए हम यहां यही सलाह देंगे कि कम उम्र में हेल्थ कवर लें, कोई भी इंश्योरेंस प्रोडक्ट जितनी कम उम्र में लेंगे, प्रीमियम उतना ही कम होगा, और आप उतने ही फायदे में रहेंगे।


वीडियो देखें