Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: टैक्स से जुड़ी मुश्किल बनाएं आसान

प्रकाशित Sat, 02, 2014 पर 17:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नए बजट में सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स छूट की सीमा को बढ़ाकर 1.5 लाख रुपये कर दिया गया। इस बढ़ोतरी की खबर से सभी खुश है लेकिन कहां करें ये अतिरिक्त निवेश ताकि बचत के साथ हो आपके भविष्य की अच्छी प्लानिंग और आपका भविष्य बन सकें सुरक्षित, ये सवाल सभी के मन में हैं। जीवन बीमा में पैसा लगाएं या फिर पीपीएफ का रास्ता चुनें या फिर यूलिप प्लान हो सकता है आपके लिए बेहतर। आपकी इसी मुश्किल को आसान बनाने के लिए लेंगे टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया से टैक्स प्लानिंग की टिप्स।


टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया का कहना है कि फाइनेंस बिल नंबर 2 संसद मे पास हो गया है। वित्त मंत्री ने टैक्स बचत के जो लुभावने सुअवसर दिए थे, वो अब प्राप्त होंगे। लेकिन 80सी की बचत के अंतर्गत निवेश करने का फायदा सबको बराबर नहीं मिलेगा। सेक्शन 80 सी में अब प्रावधान ये हुआ है कि आप 1 लाख रुपये के बदले 1.5 लाख रुपये तक निवेश कर सकते हैं।


अगर आपकी इनकम 2.5-5 लाख रुपये तक है और आप 1.5 लाख रुपये तक का निवेश करते है तो 5,000 रुपये तक की बचत होगी। परंतु अगर आपकी इनकम 5-10 लाख रुपये के बीच है तो ऐसे में 10,000 रुपये तक की बचत होगी। इसके अलावा 10 लाख रुपये से ज्यादा इनकम पर 15,000 रुपये तक की बचत होगी। पीपीएफ, यूलिप, ईएलएसएस, इंश्योरेंस, एनपीए, बच्चों की फीस और होमलोन रीपेमेंट में 80 सी का फायदा उठाया जा सकता है। इन सभी विकल्पो में इंश्योरेंस और टर्म प्लान लेना ज्यादा फायदेमंद होगा। इनमें उम्र के हिसाब से निवेश करना बेहतर होता है।


जीरो गोल निवेशक एनपीएस, ईएलएसएस में निवेश कर सकते हैं। वहीं युवा लोग बच्चों की फीस, होमलोन रीपेमेंट, इंश्योरेंस में निवेश कर सकते हैं। इंश्योरेंस में निवेश कर बची राशि पीपीएफ में डालना उचित होता है। सीनियर सिटीजन बैंक एफडी में निवेश कर सकते हैं।         

वीडियो देखें