Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: कैसे सुधारें अपना क्रेडिट स्कोर

प्रकाशित Thu, 06, 2014 पर 12:38  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी में हम फोकस करेंगे क्रेडिट स्कोर पर और दिग्गजों से जानेंगे क्रेडिट स्कोर कैसे तय होता है और क्रेडिट स्कोर को कैसे सुधार जाएं।


फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या कहना है कि क्रेडिट स्कोर यानि आपके लिए एक नंबर होता है, जिसके हिसाब से बैंक और दूसरे फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन उस नंबर को देखकर, आपकी क्रेडिट हिस्ट्री को देखकर लोन, और अन्य फायदे दे सकता है। पेमेंट रिकॉर्ड के आधार पर स्क्रेडिट स्कोर तय किया जाता है। स्कोर कम होने पर लोन की अर्जी खारीज हो सकती है। आमतौर पर 700 से ज्यादा क्रेडिट स्कोर वालों को लोन दिया जाता है। 


सिबिल से मिले आंकड़े के बाद ही बैंक कर्ज देने पर फैसला लेते हैं। ग्राहकों का रिकॉर्ड साफ होने पर लोन जल्दी मिल जाता है। डिफॉल्ट से धित सभी रिकॉर्ड सिबिल के पास होते हैं। क्रेडिट स्कोर खराब होने पर लोन मिलने में दिक्कतें होती हैं


सिबिल से हर्षला चंडोरकर का कहना है कि भारत में सारे बैंक, फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन है, वो सिबिल के सदस्य है और ये सिबिल को सभी ऋण लेने वालें व्यक्तियों या कंपनी  की फाइनेंशियल हिस्ट्री की जानकारी देते हैं। सिबिल यानि क्रेडिट इंफोर्मेशन ब्यूरो(इंडिया) लिमिटेड। इसका रजिस्टर्ड कार्यालय मुंबई के नरीमन प्वाइंट में है, इसमें प्राइवेट संगठन है। सभी सरकारी और प्राइवेट बैंक इसके सदस्य है।


वीडियो देखें