Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरूः वसीयत बनवाते समय क्या ध्यान दें

प्रकाशित Fri, 05, 2014 पर 11:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स बचाने में आपकी मदद करने वाला शो टैक्स गुरू फिर हाजिर है। टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया से जानें क्या हैं टैक्स बचाने के तरीके और कैसे भरें अपना इंकम टैक्स। आपकी टैक्स से जुड़ी हर उलझन का हल जानते हैं टैक्स गुरू।


सवालः अलग अलग संपत्ति के लिए अलग अलग वसीयत बनवाली चाहिए या सब प्रॉपर्टी को मिलाकर एक वसीयत में लिखना होगा?


सुभाष लखोटिया: ये पूरी तरह आपकी अपनी मर्जी पर निर्भर करता है। अलग अलग जगहों पर संपत्ति के लिए अलग अलग वसीयत बना सकते हैं। संपत्ति के लिए अलग वसीयत बनाते समय सारी बातें साफ-साफ रखें। वसीयत में ये लिखें कि खास संपत्ति के लिए वसीयत बनाई गई है। इस वसीयत को बनाने का एक ही फायदा है कि जिस व्यक्ति के लिए ये वसीयत बनाई गई है उसके पास पूरी वसीयत रहेगी। ये भी बताएं कि बाकी संपत्ति के लिए अलग वसीयत बनाई गई है। पति पत्नी एक  ज्वाइंट वसीयत बना सकते हैं और चाहें तो अलग अलग वसीयत भी बना सकते हैं।


सवालः पत्नी ने लकी ड्रॉ में घर जीता है और इसके होमलोन को पति चुकाएंगे, क्या पति को टैक्स छूट मिल पाएगी? हाउसिंग बोर्ड के नियम के मुताबिक लकी ड्रॉ में मिले घर में कोई को-ओनर नहीं हो सकता है तो क्या पति को लोन का गारंटर बनने पर टैक्स छूट मिल पाएगी? 


सुभाष लखोटिया: इसमें पति को होमलोन पर टैक्स छूट नहीं मिलेगा। अगर टैक्स छूट लेनी हो तो पत्नी बैंक से या पति से लोन लें और लोन पर टैक्स छूट को लें।


सवालः ट्यूशन फीस के टैक्स छूट में क्या क्या शामिल हो सकता है? 


सुभाष लखोटिया: केवल दो बच्चों की ट्यूशन फीस पर टैक्स छूट का फायदा मिल सकता है। ट्यूशन फीस के अलावा डेवलपमेंट फीस, डोनेशन, किताबों का खर्च शामिल नहीं होगा। रिश्तेदारों के बच्चों की फीस पर छूट नहीं मिलेगी। केवल आप अपने बच्चों की फीस पर टैक्स छूट पा सकते हैं।   


सवालः होमलोन में किन खर्चों पर टैक्स छूट का फायदा मिल सकता है?     


सुभाष लखोटिया: होमलोन रिपेमेंट के साथ ही स्टैम्प डयूटी और मकान की रजिस्ट्री के खर्च पर छूट मिल सकती है। लेकिन अगर आप को-ऑपरेटिव सोसायटी के मेंबर है, तो सोसायटी में प्रवेश शुल्क और शेयर्स आदि की कीमतों पर टैक्स छूट नहीं मिलेगा। साथ ही मकान में रहने के बाद मरम्मत, बदलाव आदि के खर्च पर भी टैक्स छूट नहीं मिल सकता है।


जिसके नाम से घर है उसे ही टैक्स छूट का फायदा हो सकता है। मकान मालिक को ही होमलोन ब्याज पर छूट मिल सकती है। घर तैयार होने पर ही होमलोन रिपेमेंट पर छूट मिल सकती है। निर्माणधीन मकान के लोन रिपेमेंट पर छूट नहीं मिलेगी।     


सवालः मैं एक फ्लैट खरीदना चाहता हूं, मैं पिताजी से कितना पैसा ले सकता हूं जिसपर टैक्स नहीं लगे?


सुभाष लखोटियाः आप पिताजी से कर्ज या गिफ्ट के रूप में कितनी भी रकम ले सकते हैं। इस पर आपको या आपके पिताजी को टैक्स नहीं चुकाना होगा। एक बात का ध्यान रखें कि ये रकम अकाउंट पेई चेक या ड्राफ्ट से लेना बेहतर रहेगा जिससे इस बात का सबूत हो कि आपने ये रकम लोन या गिफ्ट के रूप में ली है।


सवालः 1998 में पत्नी के नाम से जमीन ली। पत्नी प्लॉट पति को गिफ्ट करे और वो इसे बेचकर अपने नाम से फ्लैट खरीदे तो क्या टैक्स बचेगा?


सुभाष लखोटियाः पत्नी अगर जमीन गिफ्ट करे और पति इसे बेचकर फ्लैट खरीदे तो टैक्स की बचत नहीं होगी। पत्नी अपने देवर को जमीन गिफ्ट कर सकती है। आपके भाई जमीन बेचेंगे तो कैपिटल गेन टैक्स लगेगा।


सवालः 4 लाख रुपये की एफडी है जिस पर बैंक टीडीएस काटता है। आय का अन्य कोई स्त्रोत नहीं है। टीडीएस ना कटे इसके लिए क्या करना चाहिए?


सुभाष लखोटिया: एफडी के ब्याज पर टीडीएस ना कटे इसके लिए बैंक में फॉर्म 15जी भरकर जमा करें। ऐसे करदाता जिनकी आय न्यूनतम टैक्स चुकाने की सीमा के भीतर नहीं आती है तो वो इस फॉर्म को भरकर बैंक में दे दें। इसके बाद टैक्स नहीं कटेगा।


वीडियो देखें