Moneycontrol » समाचार » निवेश

निवेश पाठशालाः क्या हो आपकी रणनीति

प्रकाशित Tue, 23, 2014 पर 10:18  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आवाज़ निवेश पाठशाला में इस बार जानकार बता रहे हैं कि बाजार में किन फंडामेंटल पर ध्यान रखना चाहिए।


ब्ल्यू ओशन कैपिटल के निपुण मेहता का कहना है कि बाजार में जिन कंपनियों के पास ज्यादा कैश नहीं है उनसे दूर रहना चाहिए। जिन कंपनियों के प्रमोटर अपने शेयर गिरवी रख देते हैं तो उन शेयरों में ज्यादा खतरा रहता है। इंफ्रा कंपनियों में जिनके पास ऑर्डर तो हैं लेकिन उनका एक्जीक्यूशन नहीं हो रहा है तो उन से भी दूर रहना चाहिए।


वित्त वर्ष 2015 में ब्याज दरों में 0.5 फीसदी की कटौती होने की उम्मीद है जिससे इंफ्रा कंपनियों, पीएसयू बैंकों के लिए अच्छा समय आ सकता है। नए प्रोजेक्ट शुरू होने और अटके प्रोजेक्ट चालू होने से अर्थव्यवस्था की स्थिति अपने आप बदलने लेगी।


इंडिया निवेश सिक्योरिटीज के हेड रिसर्च दलजीत सिंह कोहली के मुताबिक कई कंपनियों के प्रोजेक्ट के लिए निवेशक नहीं मिल पाते हैं जिसके चलते उनके ऑर्डर पूरे नहीं हो पाते हैं और ऐसी कंपनियों पर दबाव रहता है। ऐसी स्थित में वो कर्ज पर कर्ज लेती जाती हैं और कर्ज के बोझ तले दबती जाती हैं। आजकल पीएसयू बैंकों पर भी एनपीए का दबाव रहता है और वित्त वर्ष 2015 में ब्याज दरें कम होने के बाद बैंकों के एनपीए में भी कमी होने की उम्मीद है।


बाजार में ऐसा नहीं कह सकते कि सभी पीएसयू बैंक या सभी निजी बैंक अच्छे हैं। इनमें से आपको अच्छे स्टॉक्स चुनने होंगे और


प्रामेरिका म्यूचुअल फंड के एमडी और सीईओ विजय मंत्री का कहना है कि अगर इंफ्रा कंपनियों में निवेश करना है तो आपके पास कई रास्ते हैं। आप ऐसेट कंपनी, रोड बेस्ड कंपनियों और बैंकों में भी निवेश कर सकते हैं जिससे इंफ्रा कंपनियों में भी एक्सपोजर मिल सके।


वीडियो देखें