Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

रियल एस्टेट टीवीः जानें आरईआईटी का असर

प्रकाशित Mon, 29, 2014 पर 11:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

2014 रियल एस्टेट सेक्टर के लिए एहम साल रहा है। इस साल कई ऐसे सरकारी फैसले लिए गए है, जिनसे रियल एस्टेट के बिजनेस पर सीधा असर पड सकता है। इनमें से एक है आईईआईटी या रियल एस्टेट इंवेस्टमेंट ट्रस्ट। आज हम देखेंगे कि आरईआईटी आने के बाद रियल एस्टेट सेक्टर पर इसका क्या असर होगा और इससे रियल्टी सेक्टर की तस्वीर कैसे बदलेगी।


प्रॉपर्टी फंड एनआईएफसीओ के एमडी और सीईओ अमित गोयनका 2015 में 1 या 2 रईआईटी आते हुए दिखेंगे। अभी भी आरईआईएटी पर कुछ तथ्य हैं जो इसके पक्ष में नहीं हैं। हालांकि लोगों को इसको लेकर काफी उत्सुकता है और इसके लिए काफी इंतजार हो रहा है। अगले बजट में इसके सभी सवालों के जवाब मिलने की उम्मीद है। हालांकि अगले साल की दूसरी छमाही से पहले आरईआईटी आने की संभावना कम ही है।


क्रेडाई चेयरमैन ललित कुमार जैन का कहना है कि आरईआईएटी लाना सकारात्मक कदम है लेकिन अभी कुछ मुद्दे सुलझने बाकी हैं। कैपिटल गेन टैक्स, स्टैंप ड्यूटी के मसले पर सफाई आनी जरूरी है। इसकी फाइनल ड्राफ्टिंग होते वक्त अगर इंडस्ट्री को भी इसमें शामिल किया जाए तो काफी सवालों के जवाब मिल सकते हैं।


पीडब्ल्यूसी इंडिया के एसोसिएट डायरेक्टर भैरव दलाल का कहना है कि आरईआईटी की ड्राफ्ट गाइडलाइंस बनाते वक्त इंडस्ट्री से सुझाव मांगे गए थे। सेबी ने इसपर निवेशकों के सुझाव मांगे थे। विश्व के अन्य देशों में भी आरईआईटी आने के बाद पहला आऱईआईटी आने में 2-3 साल लगे थे तो भारत में भी अगर आरईआईटी आने में 1-2 साल लगते हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं है। सबसे अहम बात ये है कि इसके आने के वक्त निवेशकों को पूरी सफाई के साथ इसमें निवेश करने का मौका मिले।


वीडियो देखें