Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: कैसा है रिलायंस रिटायरमेंट फंड

प्रकाशित Sat, 24, 2015 पर 12:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जीवन में सपने देखना जरूरी है और उन सपनों को पूरा करने के लिए जरूरी है सही फाइनेंशियल प्लानिंग। इसी फाइनेंशियल प्लानिंग का अहम हिस्सा है रिटायरमेंट प्लानिंग, जिस पर हममें से काफी कम लोगों का ही ध्यान जाता है।


योर मनी में हम इसी पहलू की चर्चा करेंगे और हमारे एक्सपर्ट रिलायंस कैपिटल एएमसी के डिप्टी सीईओ हिमांशु व्यापक और वाइजइन्वेस्ट एडवाइजर्स के हेमंत रुस्तगी देंगे आपको वो सलाह, जिससे आपकी रिटायरमेंट की सही प्लानिंग हो सके।


रिलायंस कैपिटल एमएमसी ने रिलायंस रिटायरमेंट फंड लॉन्च किया है, जिसमें निवेश पर सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स छूट भी मिलेगी। रिलायंस कैपिटल एएमसी के डिप्टी सीईओ हिमांशु व्यापक के मुताबिक रिलायंस रिटायरमेंट फंड में इक्विटी ओरिएंटेड और डेट ओरिएंटेड जैसे दो स्कीम हैं। इक्विटी ओरिएंटेड स्कीम कम उम्र वालों के लिए बेहतर है और डेट ओरिएंटेड स्कीम उन लोगों के लिए अच्छी जो रिटायरमेंट के नजदीक हैं। इस फंड में 5 साल का लॉक इन पीरियड है और इक्विटी या डेट फंड में स्विच करने की सुविधा है। इस फंड में निवेश पर सेक्शन 80(सी) के तहत 1.5 लाख रुपये तक की छूट मिलेगी। सेबी के नियमों के मुताबिक ट्रांसपेरेंट कॉस्ट एफिशिएंट स्ट्रक्चर है। 


महंगाई की वजह से 30 साल बाद आज का खर्च 7 गुना हो जाएगा और औसत उम्र बढ़ने की वजह से रिटायरमेंट बाद का खर्च भी बढ़ता जाएगा और इसलिए अभी से रिटायरमेंट प्लानिंग करना जरूरी है। वहीं न्यूक्लियर फैमिली की वजह से आत्मनिर्भरता भी जरूरी है। देश में सोशल सिक्योरिटी सिस्टम मजबूत नहीं है। भारत में रिटायरमेंट एसेट और जीडीपी का रेश्यो काफी कम है। 80 फीसदी भारतीय अच्छी रिटायर्ड लाइफ के लिए बचत नहीं कर पाते।   


वाइजइन्वेस्ट एडवाइजर्स के हेमंत रुस्तगी के मुताबिक रिलायंस रिटायरमेंट फंड मौजूदा पेंशन फंड से अलग है। रिलायंस रिटायरमेंट फंड में इक्विटी में ज्यादा निवेश करने की छूट मिलती है। रिटायरमेंट जैसे लक्ष्य के लिए इक्विटी में निवेश करना बेहतर होगा। फ्रैंकलिन इंडिया पेंशन प्लान और यूटीआई रिटायरमेंट बेनेफिट पेंशन फंड डेट ओरिएंटेड है। जल्दी निवेश शुरू करने वालों के लिए वेल्थ क्रिएशन स्कीम बेहतर है। ईपीएफ और पीपीएफ में निवेश करने वालों के लिए भी एक अच्छा विकल्प है।


वीडियो देखें