Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

कैसी हो छोटी अवधि की फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Sat, 14, 2015 पर 14:10  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बड़े बड़े सपनों को पूरे करने के लिए सही प्लानिंग भी काफी जरूरी होता है। योर मनी में हमारा फोकस हमेशा आपकी पूरी फाइनेंशियल प्लानिंग पर होता है। रूंगटा सिक्योरिटीज के चीफ फाइनेंशियल प्लानर हर्षवर्धन रूंगटा आज फाइनेंशियल प्लानिंग से जुड़ी समस्याओं को सुलझाने में मदद करेंगे।


सवालः निवेश शुरू करना है। मैं सरकारी नौकरी में हूं। आय 4.4 लाख रुपये सालाना है। पीपीएफ में निवेश जारी है, पर ईएलएसएस में निवेश शुरु करना है। 40,000 रुपये सालाना निवेश कर सकता हूं। इसके अलावा हर महीने 3,000 रुपये का निवेश भी करना है। सभी निवेश लंबी अवधि के हैं।


हर्षवर्धन रूंगटाः ईएलएसएस में निवेश करने का फैसला अच्छा है, टैक्स बचत भी होगी। एक्सिस लांग टर्म इक्विटी और आईसीआईसीआई प्रू टैक्स प्लान अच्छे फंड हैं। एसआईपी के लिए किसी एक स्कीम में ही निवेश करें तो बेहतर होगा। एकमुश्त निवेश के लिए दोनों स्कीम में आधा-आधा पैसा डालें। 3,000 रुपये महिने के निवेश के लिए डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड अच्छे रहेंगे। कम से कम 10 साल के लिए निवेश जारी रखें और पोर्टफोलियो को हर 2 साल में रिव्यू करना चाहिए।


सवालः उम्र 21 वर्ष है और नया निवेश करना है। आमदनी 21,000 रुपये हर महीने हैं और 26 साल में 1 करोड़ रुपये चाहिए। यूटीआई यूलिप में 1000 रुपये हर माह और एनपीएस में 12,000 रुपये हर माह निवेश कर रहा हूं।


हर्षवर्धन रूंगटाः आपके मौजूदा निवेश से 26 साल में 1 करोड़ रुपये जमा करना मुश्किल है। मौजूदा निवेश जारी रखें और भविष्य में बढ़ाने की कोशिश करें। आपके चुने हुए तीनों फंड अलग अलग कैटेगरी के हैं। रिलायंस इक्विटी ऑपरच्यूनिटी और एचडीएफसी मिडकैप ऑपरच्यूनिटी, मिड और स्मॉल कैटेगरी के फंड हैं। वहीं यूटीआई ऑपरच्यूनिटी फंड लार्ज कैप फंड है। तीनों फंड की आपस में तुलना ठीक नहीं है और अपने निवेश से पहले फाइनेंशिल प्लानर से सलाह करें।


वीडियो देखें