Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स से परेशान, टैक्स गुरू दें समाधान

प्रकाशित Sat, 14, 2015 पर 14:50  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स का नाम सुनते ही हम परेशान हो जाते हैं और आपकी यही परेशानी दूर करते हैं टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया। टैक्स से जुड़ा ऐसा कोई सवाल नहीं जिसका जवाब टैक्स गुरू के पास ना हो। तो आइये टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया से जानते है टैक्स से जुड़ी अहम बातें। 


सवालः पुरानी कंपनी में 3 साल काम किया और 17 लाख रुपये पीएफ के मिले, क्या इस पर टैक्स लगेगा?


सुभाष लखोटियाः आईटी कानून के तहत किसी कंपनी के पीएफ को 5 साल से ज्यादा बनाए रखने पर ही रकम टैक्स फ्री होगी। अगर आप 5 साल से पहले नौकरी बदलते हैं तो पीएफ को नई कंपनी में ट्रांसफर कर लें। अगर आपने इसे 5 साल से पहले पीएफ से पैसा निकाल लिया तो इस पर टैक्स लग जाएगा।


सवाल: मकान के किराए पर टैक्स छूट कैसे मिलेगी?


सुभाष लखोटिया: घर के किराए पर सेक्शन 80जीजी के तहत छूट मिलेगी। वेतन के 25 फीसदी की अधिकतम सीमा तक छूट की अनुमति है। लेकिन हर महीने केवल 2000 रुपये तक की अधिकतम छूट मिलेगी।


सवाल: कंपनी ने स्कूल फीस की रसीद लेने से मना किया अब क्या करें?


सुभाष लखोटिया: अगर स्कूल की रसीद में यह लिखा है कि ये स्कूल फीस है तो सेक्शन 80सी की छूट लेने में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। लेकिन अगर स्कूल फीस का ब्रेक-अप दिया हो तो सिर्फ ट्यूशन फीस पर टैक्स छूट मिलेगी। आपको स्कूल से ट्यूशन फीस की रकम का सर्टिफिकेट लेकर अपने ऑफिस में जमा करना होगा।


सवालः घर में अगर अपना हिस्सा बेटे को गिफ्ट करते हैं तो क्या टैक्स लगेगा और किसको लगेगा? 


सुभाष लखोटिया: बेटे को प्रॉपर्टी गिफ्ट करने पर कोई टैक्स नहीं लगेगा। प्रॉपर्टी गिफ्ट करने के लिए आप गिफ्ट डीड बनाएं। भविष्य़ में बेटा जब प्रॉपर्टी बेचेगा तो कैपिटल गेन उसे चुकाना होगा। गिफ्ट करने वाले व्यक्ति को जिस किमत पर प्रॉपर्टी मिली, वहीं कीमत बेटे के लिए मान्य होगी।


सवालः एनपीएस स्कीम के क्या फायदे हैं, एफडी, टैक्स फ्री बॉन्ड, आईपीओ और ईटीएफ में निवेश की सीमा कितनी है?


सुभाष लखोटिया: न्यू पेंशन स्कीम (एनपीएस) के तहत 2 तरह के अकाउंट होते हैं। टीयर 1 अकाउंट में तनख्वाह का 10 फीसदी तक निवेश कर सकते हैं। टियर 2 अकाउंट में निवेश करने की कोई सीमा नहीं है। अगर आपकी आय 10 लाख रुपये सालाना से कम है तो टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश करना अच्छा विकल्प नहीं है। 10 लाख रुपये सालाना से ज्यादा आय होने पर टैक्स प्री बॉन्ड में निवेश करें। एफडी, टैक्स फ्री बॉन्ड, एनपीएस और पीएफ में थोड़ा थोड़ा निवेश करें।


सवाल: शेयर ट्रेडिंग से शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन होता है, तो शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन के केस में किस तरह के खर्चों पर छूट मिलती है?


सुभाष लखोटिया: शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन कमाने में हुए सभी वास्तवित खर्च पर छूट मिलेगी। शेयर की कीमत के साथ ही निवेश के लिए लिये लोन के ब्याज पर भी छूट मिलेगी। इसके अलावा बड़े पैमाने पर ट्रेडिंग के लिए स्टाफ रखा है तो उसका खर्च भी बतौर छूट मिलेगा। लेकिन अगर कम ट्रेडिंग की और स्टाफ का खर्च दिखाएंगे तो छूट नहीं मिलेगी।


वीडियो देखें