Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: कैसे बदलेगा ई-शॉपिंग का अंदाज

प्रकाशित Thu, 02, 2015 पर 13:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आने वाले कुछ महीनों में ऑनलाइन शॉपिंग का अंदाज बदलने वाला है। दरअसल, नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां यानि एनबीएफसी अब अमेजन, फ्लिपकार्ट जैसे ऑनलाइन स्टोर्स के लिए जीरो इंटरेस्ट वाली ईएमआई स्कीम शुरू करने जा रही हैं। फिलहाल ये सुविधा सिर्फ फिजिकल स्टोर से सामान खरीदने वालों को ही मिलता है। इस सुविधा के आने से कैसे बदलेगा इंटरनेट शॉपिंग का बाजार।

आखिर क्या हैं ये जीरो इंटरेस्ट स्कीम्स, क्या सचमुच में इनमें ब्याज नहीं लगेगा या ये सिर्फ ग्राहक को आकर्षित करने का एक तरीका है। साथ ही क्या ग्राहकों को खरीदारी करते वक्त इन स्कीमों का फायदा लेना चाहिए। इन्ही अभी मुद्दों पर लेंगे प्राइवेट वेल्थ मैनेजमेंट के फिरोज अजीज से उनकी राय और साथ ही जानेंगे फाइनेंशियल प्लानिंग से जुड़े आपके सवालों के जवाब  


प्राइवेट वेल्थ मैनेजमेंट के फिरोज अजीज का कहना है कि जीरो परसेंट ईएमआई की ये नई स्कीम एनबीएफसी की ऑनलाइन खरीदारों के लिए है। ये स्कीम बड़ी वेबसाइट्स पर शुरु नहीं हुई है। लेकिन ये स्कीम अगले 6 महीने में शुरू हो जाएगी। फिलहाल फिजिकल स्टोर में खरीदारी पर ही ये सुविधा मिल रही है। जीरो परसेंट ईएमआई एक मार्केटिंग स्ट्रैटेजी है जो खरीदारों को आकर्षित करती है, लेकिन इन स्कीम में जो डिस्काउंट दिए जाते है वो कम होते है।


फिरोज अजीज के मुताबिक खरीदारी से पहले निवेशकों को इस जीरो इंटरेस्ट वाली स्कीम को समझना चाहिए। इसमें प्रोडक्ट खरीदने पर प्रोसेस या ट्रांजैक्शन फीस देनी होती है और फीस का परसेंट प्रोडक्ट पर निर्भर होता है। इस स्कीम में एमआरपी पर प्रोडक्ट मिलेगा, लेकिन कोई छूट नहीं मिलेगी।


वीडियो देखें