Moneycontrol » समाचार » टैक्स

कैसे करें पार्टनरशिप फर्म को कंपनी में तबदील

प्रकाशित Sat, 09, 2015 पर 15:14  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स आप भले ही हर साल देते हो लेकिन इससे जुड़ी कई चीजे अक्सर आपको पता नहीं होती या फिर समय पर याद नहीं आती, इसलिए हर हफ्ते हम आपके टैक्स से जुड़े उन तमाम सवालों के जवाब लेकर आते है और आपके के लिए टैक्स को आसान बनाते हैं टैक्स एक्सपर्ट सुभाष लखोटिया


टैक्स गुरु में आज हम जानेंगे पार्टनरशिप फर्म को कंपनी में तबदील करते समय किन बातों का ख्याल रखना चाहिए और साथ जानेंगे आपके टैक्स से जुड़े तमाम सवाल के जबाव।   


टैक्स एक्सपर्ट सुभाष लखोटिया का कहना है कि प्रोपराइटरशिप बिजनेस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में बदलने से फायदा होगा। टैक्स के लिहाज से प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को इसका ज्यादा फायदा होगा। सेक्शन 47(14) के तहत इसके नियम दिए गए है। फर्म को प्राइवेट कंपनी बनाने पर किसी भी तरह का कैपिटल गेन टैक्स नहीं लगेगा। प्रोपराइटरशिप की संपत्ति प्राइवेट लिमिटेड की हो जानी चाहिए और नई कंपनी में प्रोपराइटर का हिस्सा 5 सालों तक 50 फीसदी से कम नहीं रहना चाहिए।


ध्यान रहें कि अगर कंपनी किसी पार्टनरशिप फर्म को खरीदती है तो नियम सेक्शन 47(13) में दिए है। नियम के तहत कुछ औपचारिकताएं पूरी कर कैपिटल गेन टैक्स बचाना मुमकिन है। अधिग्रहण के समय पार्टनशिप फर्म की सभी संपत्ति आदि कंपनी की हो जाएगी। सारे पार्टनर कंपनी में शेयर होल्डर होने चाहिए। पार्टनर को सिर्फ कंपनी के शेयर मिलने चाहिए ना कि पैसा। पार्टनर को कंपनी के शेयर कम से कम 5 साल तक जरूर रखना चाहिए।     

सुभाष लखोटिया के मुताबिक यदि अगर 3 पार्टनर जो फर्म में नहीं रहना चाहते हैं तो उनको पैसा देकर हटा सकते हैं और बाकी पार्टनर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में शेयर होल्डर हो सकते हैं। ऐसा करने पर कैपिटल गेन टैक्स नहीं लगेगा।


वीडियो देखें