Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनीः सोना जमा करें, ब्याज पाएं

प्रकाशित Fri, 22, 2015 पर 12:10  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर आपने अपनी अलमारी और बैंक लॉकर में पुराना सोना और ज्वेलरी रखा हुआ है तो अब उसे बाहर निकाल लीजिए। क्योंकि अब उस से मुनाफा कमाने का वक्त आ गया है। सरकार ने बजट में ऐलान किए गए गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम का ड्राफ्ट जारी कर दिया है। इस पर लोगों की राय भी मांगी गई है। यानि सरकार की इस स्कीम में हिस्सा लेकर आप अपनी जूलरी पर अच्छी कमाई कर सकते हैं।


सरकार की गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम पर www.harshroongta.com के पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट और रजिस्टर्ड इन्वेस्टमेंट एडवाइज हर्ष रूंगटा का कहना है कि देश में पिछले 23 सालों से गोल्ड डिपॉजिट स्कीम चली आ रही है लेकिन लोगों को इस स्कीम के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। हालांकि गोल्ड डिपॉजिट स्कीम में कम से कम 500 ग्राम सोना रखना अनिवार्य है, और यही वजह है कि इतनी भारी मात्रा में सोना रखने की शर्त ने इस स्कीम को फ्लॉप कर दिया।


हालांकि हर्ष रूंगटा का मानना है कि सरकार की गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम से सोने में निवेश करने वालों के लिए एक और विकल्प मिल जाएगा। इसके अलावा घर-मंदिर में पड़ा सोना मार्केट में आएगा। वहीं गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम सफल हुई तो सोना निवेश का बड़ा विकल्प होगा और सोने से लोगों का भावनात्मक जुड़ाव कम होगा।


हर्ष रूंगटा के मुताबिक गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम के तहत आप सोने के सिक्के, ईंट और ज्वेलरी जमा कर सकेंगे। इस स्कीम के तहत कम से कम 30 ग्राम सोना जमा करना होगा। लेकिन इस स्कीम के तहत हर बैंक अपने हिसाब से ब्याज दर तय करेगा और ब्याज गोल्ड की शक्ल में दिया जाएगा। गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम के तहत 30 या 60 दिन के बाद ही ब्याज मिलना शुरू होगा। इस स्कीम में गोल्ड या कैश में डिपॉजिट वापस लेने का विकल्प होगा।


हर्ष रूंगटा ने कहा कि गोल्ड सेविंग्स अकाउंट स्कीम से गोल्ड लोन लेना आसान होगा और पर्सनल लोन से सस्ते दर पर गोल्ड लोन मिलेगा। लेकिन हर व्यक्ति गोल्ड सेविंग्स अकाउंट नहीं खोलेगा जिससे पर्सनल लोन की मांग बनी रहेगी। सरकार की गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम से सोने में निवेश करने वालों के लिए एक और विकल्प मिल जाएगा। इसके अलावा घर-मंदिर में पड़ा सोना मार्केट में आएगा। वहीं गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम सफल हुई तो सोना निवेश का बड़ा विकल्प होगा और सोने से लोगों का भावनात्म जुड़ाव कम होगा।


वीडियो देखें