Moneycontrol » समाचार » रिटायरमेंट

रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए इनवेस्टमेंट टिप्स

प्रकाशित Sat, 30, 2015 पर 15:23  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सारी जिंदगी बच्चों की जिम्मेदारियां पूरी करने के बाद, रिटारमेंट का समय, अपना होता है। इस समय जिंदगी की सभी भागदौड़ खत्म हो चुकी होती है और आप सुकून से जीना चाहते हैं। इसके लिए जरूरी है सही फाइनेंशियल प्लानिंग। जीवन में हर तरह की प्लानिंग करते समय रिटारमेंट प्लानिंग को भी एकसमान प्राथमिकता दें। जल्द से जल्द रिटायरमेंट प्लानिंग शुरू करने से आपको कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है। रिटायरमेंट प्लानिंग अहम है ताकि उम्र के इस पड़ाव पर आप किसी पर निर्भर ना रहें और जिंदगी बिना किसी समझौते के जिएं। रिटायरमेंट प्लानिंग पर अपनी राय देने के लिए आज हमारे साथ हैं पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट हर्ष रूंगटा


हर्ष रूंगटा के मुताबिक रिटायरमेंट के लिए निवेश दो हिस्से में कर सकते हैं। पहला ऐसे निवेश जिनमें टैक्स बचत का फायदा मिलता है। दूसरा, निवेश जिनमें टैक्स छूट नहीं मिलती है। ईपीएफ, एनपीएफ, पेंशन फंड में निवेश पर टैक्स बचत मिलती है। ईपीएप में निवेश पर टैक्स छूट मिलती है, साथ ही ब्याज भी टैक्स फ्री होता है। ये फिक्स्ड इनकम का सुरक्षित निवेश विकल्प है।


हर्ष रूंगटा ने कहा कि एनपीएस में निवेश भी रिटायरमेंट के लिए निवेश का अच्छा विकल्प है। एनपीएस में इक्विटी में भी निवेश का विकल्प मिलता है। एनपीएस में मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम पर टैक्स लगता है।


हर्ष रूंगटा के मुताबिक रिटायरमेंट के लिए इंश्योरेंस कंपनियों के रिटायरमेंट प्लान में भी निवेश कर सकते हैं। हर्ष रूंगटा की सलाह है कि आप रिटारमेंट के लिए एमएफ, पीपीएफ, ईएलएसएस में भी निवेश कर सकते हैं।


हर्ष रूंगटा ने बताया कि रिटायरमेंट के लिए टैक्स बचत वाले निवेश के विकल्प अच्छे होते हैं। लेकिन इनसे रिटायरमेंट कॉरपस बनाना मुमकिन नहीं होता क्योंकि रिटायरमेंट के लिए बड़ा कॉरपस चाहिए। रिटायरमेंट के लिए बड़ा कॉरपस बनाने के लिए इक्विटी, रियल एस्टेट, गोल्ड में निवेश करें। इसके लिए इक्विटी में एसआईपी के जरिए निवेश करना भी बेहतर रहता है। एसआईपी के जरिए निवेश से जोखिम का खतरा कम रहता है।


वीडियो देखें