योर मनीः कैसे करें जल्द रिटायरमेंट की प्लानिंग -
Moneycontrol » समाचार » रिटायरमेंट

योर मनीः कैसे करें जल्द रिटायरमेंट की प्लानिंग

प्रकाशित Sat, 04, 2015 पर 15:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

निवेश के लिए सबसे पहला कदम है अपने लक्ष्य तय करना। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि अगर सही लक्ष्य नहीं तो फिर निवेश का कोई मकसद नहीं। पहले लक्ष्य बनाएं और फिर पैसे लगाएं। आमतौर पर लोग, लक्ष्य तो तय कर लेते हैं लेकिन वो पर्याप्त नहीं होते क्योंकि हम सभी महंगाई को भूल जाते हैं। महंगाई को ध्यान में रखकर तय किया गया लक्ष्य ही सही रिटर्न देगा। ऐसे में सही लक्ष्य तय करें ताकि आपको मिले निवेश का पूरा फायदा। निवेश की बारीकियों को समझाने और भविष्य की बेहतर प्लानिंग करने में आपकी मदद करेंगे आनंद राठी फाइनेंशियल सर्विसेज के फिरोज अजीज।

युवा सबकुछ जल्दी करना चाहते हैं। लिहाजा वह नौकरी की ठोस शुरुआत करने के साथ-साथ अपने रिटारमेंट को 60 साल की उम्र की बजाए 45-50 की उम्र में लेना चाहते हैं। हालांकि ये तभी मुमकिन हो सकता है जब उनके पास खर्च करने के लिए मोटी रकम मौजूद हो। ऐसे में रिटायरमेंट के लिए पैसा जोड़ना अहम है। ध्यान रखें कि आप अपने बचत को कारगर निवेश के जरिए मोटी रकम में बदल सकते हैं। आइए जानते है कि कैसे करें जल्दी रिटायरमेंट की प्लानिंग और किन बातों का रखें ख्याल ताकि आप मेनटेन रख सकें अपना लाइफस्टाइल।


आनंद राठी फाइनेंशियल सर्विसेज के फिरोज अजीज का कहना है कि निवेश की जल्दी प्लानिंग के साथ ही जल्द रिटायरमेंट मुमकिन है। इसलिए पहली सैलरी मिले तभी से रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करनी चाहिए। रिटायरमेंट प्लानिंग में मेडिकल खर्चे महत्वपूर्ण होते हैं और जल्दी निवेश शुरू करने से बड़ी रकम जुटाना आसान होता है। लाइफस्टाइल और महंगाई को ध्यान में रखते हुए रिटायरमेंट के लिए सही फाइनेंशियल प्लान तैयार करना चाहिए। 


रिटायरमेंट के बाद मेडिकल के खर्चे बढ़ जाएंगे। अगर आज 30000 रु खर्च है तो 20 साल में 1.16 लाख रु की जरूरत होगी। रिटायरमेंट प्लानिंग में हॉबी, छुट्टियों का भी ध्यान रखना चाहिए। और सभी बातों का ध्यान रखकर ही हर महीने निवेश की राशि तय करनी चाहिए।

रिटायरमेंट के लिए इक्विटी और डेट में निवेश की प्लानिंग करनी चाहिए। अगर कम उम्र है तो इक्विटी में ज्यादा निवेश करनी चाहिए, क्योंकि इक्विटी से लंबे समय में अच्छा रिटर्न मिलता है और डेट में निवेश से पोर्टफोलियो में स्थिरता आती है। इक्विटी में निवेश के लिए म्युचुअल फंड में एसआईपी करनी चाहिए।


वीडियो देखें