Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: इमरजेंसी फंड क्यों है जरूरी

प्रकाशित Fri, 24, 2015 पर 12:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नई गाड़ी, बड़ा घर, आईफोन और पता नहीं क्या-क्या। जिंदगी एक है लेकिन हसरतें कई। सभी चाहते हैं कि सारी इच्छाएं पूरी हों लेकिन क्या ऐसा मुमकिन है। आमतौर पर आप कहेंगे नहीं, लेकिन हम ऐसा नहीं सोचते क्योंकि सही और संजीदा फाइनेंशियल प्लानिंग से छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी सभी इच्छाएं पूरी हो सकती हैं। यहां हम आपको फाइनेंसियल प्लानिंग के कुछ ऐसे ही टिप्स दे रहें हैं जिससे आपकी जिंदगी हो सकती है और खुशगवार। और ये टिप्स देने के लिए हमारे साथ हैं फुल सर्किल फाइनेंशियल प्लानर्स एंड एडवाइजर्स के कल्पेश अशर।


आज हम सबसे पहले बात करते हैं अचानक आए खर्च/जरूरतों के लिए बनाए जाने वाले इमरजेंसी फंड की। बढ़ती महंगाई के साथ हमारी जरूरतें भी उसी तेजी से बढ़ रही हैं। ऐसे में अचानक सामने आने वाले खर्चों से सारा बजट हिल जाता है। ऐसी ही समस्याओं से निबटने के लिए इमरजेंसी फंड का होना बहुत जरूरी है, क्योंकि आज की बचत कल की सुरक्षा है। क्यों जरूरी है इमरजेंसी फंड और कैसे बनाएं अपने लिए इमरजेंसी फंड, इन्हीं बातों पर चर्चा के साथ आज शो की शुरूआत करते हैं।


कल्पेश अशर के मुताबिक अचानक आने वाले खर्चों के लिए इमरजेंसी फंड है जरूरी होता है। इसलिए आप भी अपने लिए एक इमरजेंसी फंड बनाएं जो 3-6 महीने के खर्च चलाने लायक होना चाहिए। इमरजेंसी फंड बीमारी/दुर्घटना जैसी स्थिति में काम आता है।


कल्पेश अशर ने बताया कि इमरजेंसी फंड के लिए लिक्विड फंड में निवेश करना चाहिए जिसमें 24-48 घंटे में पैसे निकालने की सुविधा होनी चाहिए। इसके अलावा इमरजेंसी फंड के लिए बैंक बचत खाता, लिक्विड एमएफ में भई निवेश किया जा सकता।


कल्पेश अशर के मुताबिक इमरजेंसी फंड आपात स्थिति में वित्तीय फैसले लेने में मददगार होता है। इमरजेंसी फंड होने से आप पैसे की कमी के बजाय आप आपात परिस्थिति पर फोकस कर सकते। इमरजेंसी फंड होने पर आपको मौजूदा निवेश को बंद करने या हटाने की जरूरत नहीं होती। बैंक/दोस्त-रिश्तेदारों से लोन लेने की जरूरत भी नहीं पड़ती।


कल्पेश अशर ने कहा कि आश्रितों की संख्या ज्यादा तो इमरजेंसी फंड जरूरी होता है। अपने या परिवार के लिए पर्याप्त हेल्थ इंश्योरेंस नहीं तो भी इमरजेंसी फंड जरूरी होता है।


वीडियो देखें