Moneycontrol » समाचार » रिटायरमेंट

रिटायरमेंट के लिए क्या चुनें, एनपीएस या बैलेंस्ड फंड

प्रकाशित Sat, 01, 2015 पर 17:26  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जिंदगी आज है, कल किसने देखा है इस सोच के साथ जीना अच्छा होता है। लेकिन इस आज को भी सुकून भरा बनाने के लिए जरूरी है सही प्लानिंग। और यहां आपकी मदद करते हैं हम। योर मनी है आपका कंप्लीट फाइनेंशियल गाइड जो ना सिर्फ आपको निवेश के टिप्स देता है बल्कि आपके भविष्य की पूरी प्लानिंग भी करता है।


हम ये जानने की कोशिश कर रहे हैं कि रिटायरमेंट के लिए एनपीएस या फिर बैलेंस्ड फंड किसमें निवेश बेहतर हो सकता है। इस सवाल का जवाब देते हुए फाइनेंशियल एडवाइजर अर्णव पंड्या ने बताया कि बैलेंस्ड फंड या एनपीए में निवेश का नजरिया अलग-अलग होता है। बैलेंस्ड फंड में 65-70 फीसदी निवेश इक्विटी में होता है, जबकि एनपीएस में 50 फीसदी निवेश इक्विटी में होता है।


अर्णव पंड्या के मुताबिक एनपीएस में पेंशन के तौर पर मिलने वाले पैसे पर टैक्स देना होगा। साथ ही दोनों में निवेश पर रिटर्न मार्केट की स्थिति के मुताबिक अलग होंगे। इसके अलावा दोनों प्रोडक्ट में जोखिम भी अलग-अलग होगा, ऐसे में इन दोनों प्रोडक्ट की तुलना मुमकिन नहीं है।


अर्णव पंड्या ने रिटर्न पर अपनी सलाह देते हुए कहा है कि अगर किसी निवेशक को 10 साल में 50 लाख रुपये की रकम हासिल करनी है तो उसे 12 फीसदी के अनुमानित रिटर्न के साथ 21,000 रुपये प्रति महीने का निवेश करना होगा। 10 फीसदी के अनुमानित रिटर्न के साथ 24,000 रुपये प्रति महीने का निवेश करना होगा। 8 फीसदी के अनुमानित रिटर्न के साथ 27,000 रुपये प्रति महीने का निवेश करना होगा।


निवेश पर आपके लिए टिप्स


बाजार में उतार-चढ़ाव तो लगा ही रहता है। लेकिन आपको अपना निवेश बाजार में आ रहे उतार-चढ़ाव के बजाए, अपने आर्थिक लक्ष्यों को ध्यान में रखकर करना चाहिए। दूसरी टिप ये है कि माइक्रो इकोनॉमिक खबरों को ध्यान में रखकर अपने निवेश की रणनीति में बदलाव करना चाहिए।


अपने सभी आर्थिक लक्ष्यों को पूरा करने का केवल एक ही तरीका है, अपने लक्ष्य को पहचानें और उनके लिए निवेश किजिए। और ये काम आप जितना जल्दी शुरू करें, उतना अच्छा होगा, मसलन अगर आप 25 साल के लिए 10,600 रुपये हर महिना निवेश करते हैं, तो 12 फीसदी के रिटर्न के तहत आप करीब 2 करोड़ रुपये से ज्यादा इकट्ठा कर सकेंगे। और अगर ये ही निवेश आप 5 साल के लिए टाल देते हैं तो मुश्किल से 1 करोड़ जुटा पाएंगे।


वीडियो देखें