Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरूः टैक्स की उलझनों से हो जाएं टेंशन फ्री

प्रकाशित Thu, 03, 2015 पर 14:14  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स का नाम सुनते ही हो जाती है टेंशन। लेकिन टैक्स गुरू है वो नाम जो करता है आपकी टैक्स की मुश्किल आसान और बनाता है आपको टेंशन फ्री। टैक्स गुरु के सफर हम आपका टैक्स बचाने से लेकर टैक्स प्लानिंग यानि टैक्स से जुड़े हर मसले को करते हैं हल और टैक्स की गुत्थी को हमारे और आपके लिए आसान बनाते हैं हमारे टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया। आज टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया सुलझाएंगे आपकी टैक्स से जुड़ी सारी उलझनें। 


सवालः रक्षाबंधन के मौके पर बहन को कुछ गिफ्ट करना चाहता हूं, उसे कुछ रकम दूं या प्रॉपर्टी किसपर टैक्स कम लगेगा?


सुभाष लखोटियाः बहन को आप कितनी भी राशि गिफ्ट कर सकते हैं और बहन को गिफ्ट देने में कोई परेशानी नहीं होगी और आप पर टैक्स नहीं लगेगा। हां लेकिन अगर अचल संपत्ति गिफ्ट कर रहे हैं तो गिफ्ट डीड की रजिस्ट्री करवाएं।


सवालः इस रक्षाबंधन भाई से 5 लाख रुपये का गिफ्ट मिलने वाला है। क्या ये रकम टैक्स फ्री होगी या इस पर कोई टैक्स देना होगा?


सुभाष लखोटियाः आप भाई से 5 लाख रुपये या उससे ज्यादा भी गिफ्ट ले सकते हैं। आप पर या भाई पर किसी तरह की टैक्स की देनदारी नहीं होगी। 


सवालः माइनर बच्चे को माता-पिता, दादा-दादी के अलावा और कौन-कौन और कितना गिफ्ट दे सकता है। क्या गिफ्ट देने वाले को टैक्स लगेगा?


सुभाष लखोटियाः नाबालिग बच्चे को उसके रिश्तेदार गिफ्ट दे सकते हैं। बच्चे को रिश्तेदार जितनी राशि चाहें उतना गिफ्ट कर सकते हैं। रिश्तेदार को गिफ्ट देने या उससे गिफ्ट लेने पर कोई टैक्स नहीं लगता है। हालांकि नाबालिग की गिफ्ट से हुई इनकम माता/पिता की इनकम में जोड़ी जाएगी। नाबालिग बच्चे के लिए 1500 रुपये सालाना इनकम पर छूट मिलती है। अगर बच्चा गिफ्ट में मिले पैसे खर्च कर देता है तो क्लबिंग प्रावधान लागू नहीं होगा। गैर-रिश्तेदार से बच्चे को मिला 50,000 रुपये तक का गिफ्ट टैक्स फ्री होगा। बाकी रकम बच्चे की इनकम में जुड़कर पेरेंट्स की इनकम में जुड़ेगी।


सवालः एक टीवी शो प्रतियागिता में 38,000 रुपये जीते हैं। कंपनी इस पर 30 फीसदी टैक्स काटकर टीडीएस सर्टिफिकेट दे रही है। क्या ये ठीक है?


सुभाष लखोटियाः सेक्शन 115 बीबी के तहत किसी प्रतियोगिता, लॉटरी में कैश इनाम जीतने पर टैक्स लगता है और इस सेक्शन 115बीबी के तहत रकम पर 30 फीसदी टैक्स लगाया जाता है। इसके तहत लॉटरी, क्रॉस वर्ड आदि प्रतियोगिता की रकम पर टैक्स लगता है तो आपको ये टैक्स देना ही होगा।


सवालः पत्नी के नाम पर फ्लैट खरीदें तो क्या खुद ईएमआई चुकाकर टैक्स छूट का फायदा ले सकते हैं। पत्नी को किराया देकर क्या ऑफिस से एचआरए की छूट ले सकते हैं?


सुभाष लखोटियाः पत्नी अपना फ्लैट अपने पैसों से और लोन लेकर खरीदे तो बेहतर रहेगा। अगर पत्नी मकान की मालिक तो आप किराया देकर एचआरए छूट ले सकते हैं। अपने पैसों से पत्नी के नाम पर फ्लैट खरीदेंगे तो छूट नहीं मिलेगी, ऐसे में पत्नी को किराया देकर एचआरए का फायदा नहीं ले सकते क्योंकि ये डबल टैक्स बेनेफिट माना जाएगा।


वीडियो देखें