Moneycontrol » समाचार » निवेश

पहला कदमः कैसे खोलें बैंक अकाउंट

प्रकाशित Sat, 05, 2015 पर 15:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फाइनेंशियल लिटरेसी को लेकर सीएनबीसी-आवाज की खास पेशकश पहला कदम में इस बार हम बात कर रहे हैं बैंक अकाउंट की। कैसे खोलते हैं बैंक अकाउंट, इसके लिए किन किन चीजों की जरूरत होती है, किस किस तरह के अकाउंट होते हैं, कौन सा बैंक चुने?, कितने अकाउंट होने चाहिएं? इस सब की जानकारी दे रहें हैं सीएनबीसी- आवाज़ के मार्केट एडिटर अनिल सिंघवी


बैंक अकाउंट्स कितनी तरह के होते हैं?


बैंक एकाउंट दो तरह के होते हैं सेविंग्स अकाउंट और करेंट अकाउंट। सेविंग एकाउंट निजी ट्रांजैक्शन के लिए होते हैं। सेविंग्स अकाउंट निजी भुगतान में फायदेमंद होते हैं। सेविंग्स अकाउंट में ब्याज मिलता है और ब्याज पर टैक्स भी लगता है। सेविंग्स अकाउंट में 10 हजार सालाना ब्याज पर टैक्स राहत मिलती है। सेविंग्स अकाउंट पर ब्याज बैंक तय करते हैं। ज्यादातर बैंकों की ब्याज दर 4 फीसदी है। कई बैंक कुछ शर्तों पर ज्यादा ब्याज देते हैं। 1 लाख से ज्यादा जमा पर 6 फीसदी तक ब्याज मिल सकता है। इस अकाउंट पर ट्रांजैक्शन लिमिट संभव है। और कुछ सेवाओं पर बैंक फीस भी ले सकते हैं।


करेंट अकाउंट सेविंग्स अकाउंट से अलग होता है। करेंट अकाउंट से बिजनेस ट्रांजैक्शन होता है। करेंट अकाउंट कारोबारी लेन-देन में फायदेमंद होता है। करेंट अकाउंट से ट्रांजैक्शन पर लिमिट नहीं होती करेंट अकाउंट पर बैंक से ब्याज नहीं मिलता।


बैंक अकाउंट कैसे खोलें?


बैंक अकाउंट खोलने के लिए फॉर्म भरना होता है। इस फॉर्म में सभी बेसिक जानकारी देनी होगी। अकाउंट ओपनिंग फॉर्म में फोटोग्राफ भी लगता है। िसके लिए शुरुआती रकम जमा करना और केवाईसी गाइडलाइंस भरना जरूरी होता है। एकाउंट खोलने के लिए नाम, जन्म तारीख, एड्रेस और पता देना जरूरी होता है और ओपनिंग फॉर्म में तय जगह पर दस्तखत करने होते हैं।


अकाउंट्स 2 तरह के होते हैं सिंगल अकाउंट और ज्वाइंट अकाउंट। सिंगल अकाउंट में एक खाताधरक होता है। जबकि ज्वाइंट अकाउंट 1 से ज्यादा खाताधारक हो सकते हैं। ज्वाइंट अकाउंट में सभी खाताधारक लेनदेन करते हैं। 1 खाताधारक की मौत पर दूसरा ट्रांजैक्शन कर सकता है। ज्वाइंट अकाउंट में नोमिनेशन करना जरूरी होता है। जिससे अकाउंट होल्डर के ना रहने पर नॉमिनी को पैसा मिलता है।


के वाई सी में 3 डॉक्यूमेंट जरूरी होते हैं। यो हैं पैन कार्ड, पहचान पत्र और एड्रेस प्रूफ। पैन कार्ड इनकम टैक्स के लिए जरूरी होता है। पासपोर्ट खाताधारक के पहचान और एड्रेस प्रूफ का काम कर सकता है। ड्राइविंग लाइसेंस भी पहचान पत्र के रुप में मान्य है। एड्रेस प्रूफ के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट्स पैनकार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, इलेक्ट्रिसिटी बिल, गैस बिल, टेलिफोन बिल आदि हैं।


सेविंग्स अकाउंट में मिनिमम बैलेंस 1000 होता है। 10 - 20 हजार जमा पर स्पेशल फीचर भी मिलते हैं। कुछ बैंकों में जीरो बैलेंस पर अकाउंट कोला जा सकता है। बेसिक सेविंग्स अकाउंट में चेक बुक, एटीएम कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग फैसिलिटी जैसी  सुविधाएं मिलती हैं।


प्रीमियम सेविंग्स अकाउंट्स क्या होते हैं?


प्रीमियम अकाउंट में स्पेशल फीचर होते हैं। प्रीमियम अकाउंट में डेबिट कार्ड में ज्यादा लिमिट होती है। इसमें एक्सीडेंट इंश्योरेंस की सहूलियत भी मिलती है। इसमें लोन पर डिस्काउंट की सुविधा, सेविंग्स अकाउंट से लिंक किड्स अकाउंट, सेविंग्स लिंक्ड वुमैन अकाउंट, सेविंग्स लिंक्ड सीनियर सिटिजन अकाउंट, फ्री सीनियर सिटिजन डेबिट कार्ड, फ्री एक्सीडेंट हॉस्पिटिलाइजेशन जैसी सुविधाएं भी शामिल हैं।


वीडियो देखें