Moneycontrol » समाचार » निवेश

दरों में कटौती, क्या एफडी में निवेश का सही वक्त

प्रकाशित Thu, 01, 2015 पर 11:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एसबीआई के पूर्व चेयरमैन प्रतीप चौधरी ने आरबीआई के रेट को देख अपनी एफडी रिन्यू करा दी, नए लॉक इन रेट पर। प्रतीप चौधरी ने कहा कि उन्होंने सरप्लस मनी एफडी कर दी कि कही रेट कम न हो जाएं। उन्होंने आगे कहा कि अगर रेट बढ़ रहे होते तो वे सारे डिपॉजिट तोड़ के नए रेट पर लॉक इन करते।


अब सवाल ये है कि ब्याज करें घटने के बाद, क्या आपके लिए भी ये सही समय है एफडी कराने का, या  फिर दूसरे स्मॉल सेविंग स्कीम पर भी आपको नजर डालनी चाहिए, साथ ही कर्ज सस्ता होने पर क्या आप पर ईएमआई का बोझ कम होगा? यहां इन तमाम मुद्दों पर फोकस किया गया है। आपके निवेश से जुड़ी इन उलझनों को सुलझा रहे हैं Financialdoctor.co.in के मेहुल अशर और बजाज कैपिटल के विनय तलुजा


इन जानकारों के मुताबिक ये एफडीकरने का अच्छा मौका है। अगर ब्याज दरें नीचे आ रही हों तो लॉन्ग टर्म एफडी करना बेहतर होता है। इसके अलावा निवेशक इस समय लॉन्ग टर्म बॉन्ड फंड में भी निवेश कर सकते है। स्मॉल सेविंग स्कीम पर जानकारों का कहना है कि स्मॉल सेविंग स्कीम में अभी निवेश का बहुत फायदा नहीं है। क्योंकि ब्याज दरें कम होने से आने वाले समय में यील्ड कम हो सकती हैं।


जानकारों का कहना है कि टैक्स फ्री बॉन्ड भी निवेश का एक विकल्प हैं। लेकिन इनमें निवेश के पहले देखें कि यील्ड कितनी है। इसके अलावा ये भी देखें कि बॉन्ड की अवधि और लिक्विडिटी की स्थिति क्या है।


वीडियो देखें