Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: निवेश के लिए नॉमिनी की जरूरत क्यों

प्रकाशित Sat, 31, 2015 पर 17:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

निवेश की शुरूआत तो हम कर देते हैं, लेकिन अगर परिवार में कोई अनहोनी हो जाए, तो वो पैसे हमें कैसे मिले, कैसे उनको क्लैम किया जाए। नॉमिनी बनाना क्यों जरूरी है, यहां योर मनी में इन्ही सब बातों पर फोकस किया गया है और आपके सवालों के जवाब देने के लिए हमारे साथ हैं आनंद राठी वेल्थ मैनेजमेंट के फिरोज अजीज


सबसे पहले हम ये जान लेते हैं कि नॉमिनी क्या होता है? नॉमिनी एक लीगल सख्स होता है, जिसे आपके पूरे निवेश का पैसा दिया जाता है। एमएफ, इंश्योरेंस, पीपीएफ आदि जैसे निवेश के लिए नॉमिनी जरूरी होता है।


अब जान लेते हैं नॉमिनेशन जरूरी क्यों होता है? अपनो का भविष्य सिक्योर करना आपकी जिम्मेदारी होती है। आप पर आर्थिक रूप से आश्रित लोग इन पैसों को रोजमर्रा के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। कोई अनहोनी होने पर नॉमिनी को ही सारे पैसे दिए जाते हैं। आप नॉमिनी को एक से ज्यादा बार बदल भी सकते हैं।


कोई अनहोनी होने पर रेजिस्टर्ड नॉमिनी को प्रूफ पेश करना जरूरी होता है। अगर जॉइंट यूनिट होल्डर है, तो सारे यूनिट, जीवित होल्डर को ट्रांसफर किए जाएंगे।


नॉमिनी को क्लेम करते समय कुछ जरूरी डॉक्युमेंट पेश करने होते हैं। जिसमें डेथ सर्टिफिकेट, आईडी प्रूफ (राशन कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस), फंड हाउस की तरफ से दिया गया एकाउंट स्टेटमेंट, नए यूनिट होल्डर की एकाउंट डिटेल्स और क्लेम करने वाले का केवाईसी शामिल होता है।


नॉमिनी ना होने की स्थिति में जिन्हे क्लैम करना है, उन्हें एक एप्लीकेशन फाइल करनी होगी। डेथ सर्टिफिकेट भी देना होगा। इसके अलावा बैंक मैनेजर के अटेस्टेशन के साथ या फिर कैंसल्ड चेक के साथ नए यूनिट होल्डर की बैंक की डिटेल्स, क्लैम करने वाले का केवाईसी एफिडेविट, इन्डेम्निटी बॉन्ड, 1 लाख रुपये से कम निवेश राशि के लिए रिलेशनशिप डॉक्यूमेंट प्रूफ और 1 लाख रुपये से ज्यादा की निवेश राशि के लिए वसीयत की नोटरी देनी होती है।


वीडियो देखें