Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू करें टैक्स की छोटी-बड़ी उलझन को दूर

प्रकाशित Sat, 31, 2015 पर 19:18  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर टैक्स का मतलब आपके लिए टेंशन है तो हम आपके लिए एक बार फिर से हाजिर हैं टैक्स गुरु के साथ। टैक्स गुरु है आपका पर्सनल टैक्स गाइड जो करता है टैक्स से जुड़े हर छोटी-बड़ी उलझन को दूर। यहां आपको मिलता है टैक्स से जुड़े हर सवाल का जवाब। आपके लिए इनकम टैक्स को आसान बनाने के लिए हमारे साथ हैं हमारे टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया।


सवालः कंपनी मुझे वीआरएस यानी वोलेंटरी रिटायरमेंट देने जा रही है, इस के बाद कंपनी से करीब पचास लाख रुपए मिलने की उम्मीद है। इस रकम को कहां निवेश करें जिस के जरिए टैक्स भी बचे और अच्छा रिटर्न भी मिले?


टैक्स गुरूः रिटायरमेंट की प्लानिंग के लिए आपको सलाह है कि अपनी आमदनी और रिटायरमेंट के बाद के खर्चों को ध्यान में रखकर प्लानिंग करें। अगर आपकी आय ज्यादा है तो 50 लाख रुपये टैक्स फ्री बॉन्ड में निवेश कर सकते हैं और अगर आय कम है तो सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में निवेश कर सकते हैं।


सवालः मैं एचयूएफ के बारे में जानना चाहता हूं और इसमें गिफ्ट डीड के क्या नियम हैं, उनके बारे में जानना चाहता हूं?


टैक्स गुरूः एचयूएफ यानी हिंदू अनडिवाइडेड फैमिली कानूनी तौर पर वैध है और आप एचयूएफ को अधिकतम 50,000 रुपये दे सकते हैं। इसमें गिफ्ट डिक्लरेशन के लिए स्टांप पेपर की जरूरत नहीं है और आप सादे कागज पर गिफ्ट डिक्लरेशन दे सकते हैं।


सवालः मैं अपने माता पिता के साथ उनके घर में रहता हूं और अपने मां बाप को किराया भी देता हूं। अब ये जानना चाहता हूं कि क्या इस किराए के लिए मुझे टैक्स छूट मिल सकती है और अगर हां तो इसके लिए क्या प्रक्रिया है?


टैक्स गुरूः अगर आपको एचआरए मिलता हो तभी टैक्स छूट मिल पाएगी वर्ना आपको सेक्शन 80जीजी का भी फायदा नहीं मिलेगा। अपने माता पिता को दिए किराए की रसीद लेनी होगी और इस रसीद को ऑफिस में दिखाकर एचआरए क्लेम करना होगा। 


वीडियो देखें