Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: मोहब्बत की फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Tue, 03, 2015 पर 11:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पोथी पढ़-पढ़ जग मुआ, पंडित भया ना कोए, ढ़ाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय। प्यार में पड़ना हम सबको अच्छा लगता है, लेकिन अगर आप सोच रहे हैं कि योर मनी पर आज लव गुरू आए हैं, तो ऐसा बिलकुल नहीं है। आज यहां आपकी मोहब्बत की फाइनेंशियल प्लानिंग करवाई जा रही है। जिसमें हमारा साथ दे रहे हैं फाइनेंशियल प्लानर गौरव मशरूवाला और रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर हर्षवर्धन रूंगटा।


प्यार अंधा होता है, हम सब जानते हैं, लेकिन इसके अंधे होने का खामियाजा कई बार हमारी जेब को भरना पड़ता है। और ऐसे में कई बार दिल भी टूट जाता है, और जेब भी खाली हो जाती है। तो कैसे आप प्यार और अपने प्यार पर किए खर्चों में एक बैलेंस बनाएं, इसी से करते हैं चर्चा की शुरूआत।


हर्षवर्धन रूंगटा का कहना है कि प्यार प्लान करके नहीं किया जा सकता, रिलेशनशिप का आगे बढ़ना कई बातों पर निर्भरकरता है। लेकिन रिलेशनशिप में पैसे को लेकर साफ रूख जरूरी होता है। चाहे स्टूडेंट हों या नई नौकरी लगी हो, पैसे मैनेज करना आना चाहिए। आपके गिफ्ट, बाहर खाना-पीना, घूमना- फिरना, मूवीज, फोन बिल जैसे खर्च होते हैं जिनको मैनेज करना जरूरी होता है।


जानकारों की सलाह है कि प्यार में दिखावा ना करें। अपने प्रेमी या प्रेमिका के लुभाने के लिए अपनी आर्थिक स्थिति को बढ़ा-चढ़ाकर ना दिखाएं। ध्यान रखें कि सच्चा प्यार पैसों से प्रभावित नहीं होता। प्यार में आप जरूरी होने चाहिए, ना कि आपका बैंक बैलेंस। अगर आपका पार्टनर आपकी आर्थिक स्थिति से खुश नहीं है तो उसे जानें दें। प्यार में बजट बनाना बेहद जरूरी होता है। इसलिए हर महीने के खर्चों पर नजर रखें और अपनी कमाई का जरिया बढ़ाने की कोशिश करें। प्यार में किए गए खर्चों को फिजूल खर्च ना समझें। लेकिन ये ध्यान रखें कि आपका फायदा ना उठाया जा रहा हो।


फाइनेंशियल प्लानर गौरव मशरूवाला का कहना है कि दिल से प्यार करें, दिमाग से नहीं। सच्चा प्यार बिना किसी शर्त के होता है। सच्चा प्यार आर्थिक उतार- चढ़ाव से नहीं घबराता। प्यार कोई सौदा नहीं है। सच्चा प्यार होने पर अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग साथ मिलकर करें। ध्यान रखें कि प्यार किए बिना प्यार की फाइनेंशियल प्लानिंग नहीं हो सकती।


वीडियो देखें