Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः जानें टैक्स बचाने के साफ-सुथरे तरीके

प्रकाशित Sat, 28, 2015 पर 15:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर टैक्स का मतलब आपके के लिए टेंशन है तो हम हाजिर है आपकी टैक्स से जुड़ी टेंशन दूर करने के लिए। टैक्स गुरु है आपका पर्सनल टैक्स गाइड जो करता है टैक्स से जुडी हर छोटी-बड़ी परेशानी को दूर, यहां आपको मिलता है टैक्स से जुड़े हर सवाल का जबाव जो देंगे आपके टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया


सवालः टैक्स गुरू ये बताइए कि टैक्स बचाने के साफ-सुथरे तरीके क्या हैं?


सुभाष लखोटियाः सबसे पहले तो ये बता दें कि अगर आपकी सालाना आय 2.5 लाख रुपये से कम है तो टैक्स नहीं लगेगा। अगर आपकी सालाना आय 2.5 लाख रुपये से ज्यादा है तो टैक्स बचाने का तमाम वैधानिक तरीकों में सबसे पहले आता है सरकार द्वारा समय-समय पर जारी किया जाने वाला टैक्स फ्री बॉन्ड। टैक्स फ्री बॉन्ड से होने वाली आय पर कोई टैक्स नहीं लगता। इसके अलावा इंश्योरेंस पॉलिसी की मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम पर कोई टैक्स नहीं लगता। पीएफ, पीपीएफ अकाउंट से मिलने वाले ब्याज पर भी कोई टैक्स नहीं लगता। सेविंग अकाउंट से मिलने वाले 10,000 रुपये तक के ब्याज पर टैक्स छूट मिलती है।


एनआरई बैंक अकाउंट से मिलने वाले ब्याज और पार्टनरशिप फर्म या एलएलपी से मिलने वाले मुनाफे पर भी टैक्स मिलता है। इसके अलावा 4 साल में दो बार लीव ट्रैवल अलाउंस और 5 लाख रुपये तक के वीआरएस पेमेंट पर टैक्स छूट मिलता है। 1 साल से ज्यादा रखने के बाद शेयर या इक्विटी म्युचुअल फंड बेचने पर टैक्स छूट मिलता है। इक्विटी म्युचुअल फंड या शेयर में निवेश से मिले डिविडेंड पर भी टैक्स छूट मिलता है।


सुभाष लखोटिया ने आगे बताया कि शादी के वक्त रिश्तेदारों से मिले तोहफओं और उत्तराधिकार या वसीयत में मिली जायदाद पर भी टैक्स छूट मिलता है। इसके अलावा गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम में मिले ब्याज पर टैक्स मिलता है। सुभाष लखोटिया ने कहा कि आप इन इन्स्ट्रूमेंट्स में निवेश करके वैधानिक तरीके से अपना टैक्स बचा और धन बढ़ा सकते हैं।


सवाल: बेटे की पढ़ाई हेतु लिए गए लोन के री-पेमेंट का तरीका बताएं?


सुभाष लखोटियाः पढ़ाई हेतु लिए गए लोन का भुगतान आपका बेटा कर सकता है। एजुकेशन लोन के भुगतान पर टैक्स नहीं लगेगा।


वीडियो देखें