Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

एकमुश्त निवेश या एसआईपी, क्या है फायदेमंद

प्रकाशित Thu, 03, 2015 पर 11:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आमदनी अठ्टनी खर्चा रूपया। आजकल, अमूमन, हर किसी की ये ही कहानी है। लेकिन, क्या ऐसा कभी हो सकता है, कि खर्च के लिए भी आपके पास पैसे हों, और साथ ही आपका निवेश और बचत भी लगातार बढ़ते रहे। आप सोचेगें, शायद नहीं, लेकिन यहीं काम आता है आपका फाइनेंशियल गुरू योर मनी। योर मनी में आज आपको निवेश के गुर बता रहे हैं फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या।


सवाल: मेरी आय 6500 रुपये महीने है। मैंने बिड़ला सनलाइफ टॉप 100 डिविडेंड फंड में एसआईपी और यूटीआई मिडकैप फंड में एकमुश्त निवेश कर रखा है। मुझे शेयर बाजार में निवेश करना है। मुझे 5 साल के बाद शादी के लिए 4 लाख रुपये चाहिए। क्या एकमुश्त निवेश करना सही होगा? मेरी निवेश रणनिती क्या होनी चाहिए?


जवाब: आपके पोर्टफोलियो में मौजूद फंड सही हैं। शेयर बाजार में निवेश की शुरूआत लार्जकैप कंपनीयों के साथ करें। 5 साल बाद 4 लाख रुपये जमा करने के लिए सालाना 2.26 लाख एकमुश्त रकम निवेश करनी होगी। जिससे आप सालाना 12 फासदी की दर से रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं। एकमुश्क निवेश करने से पहले ये बातें ध्यान में रखें कि एकमुश्त निवेश में रिस्क ज्यादा होता है। इस रिस्क से बचने के लिए डाइवर्सीफिकेशन जरूरी होता है। एकमुश्त निवेश में जमा राशि एक साथ ना मिलने पर, लेक्ष्यों की प्लानिंग अटक सकती है।


सवाल: मेरी उम्र 25 साल है। मुझे 2-2.5 साल में 4 लाख रुपये चाहिए। मैं फ्रैंकलिन इंडिया बैलेंस्ड फंड-ग्रोथ में 1000 रुपये, एचडीएफसी बैलेंस्ड फंड-ग्रोथ में 1000 रुपये, टाटा बैलेंस्ड फंड प्लान ए ग्रोथ में 1000 रुपये, एसबीआई मैग्नम गिल्ट फंड एलटीजी रेगुलर ग्रोथ प्लान में 1000 रुपये और बिड़ला सनलाइफ एमआईपी 2 - वेल्थ 25 प्लान(जी) में 1000 रुपये निवेश करना चाहती हूं। 1.5 साल बाद पैसे निकालने पर क्या टैक्स लगेगा?


जवाब: आप अपने पोर्टफोलियो में ज्यादा फंड न रखें। ज्यादा समय ना होने की वजह से डेट में पैसे डालें। बैलेंस फंड में इक्विटी एक्सपोजर 70 फीसदी के करीब होता है। 1.5 साल के बाद, डेट से पैसे निकालने पर टैक्स लगेगा। बैलेंस फंड में 1.5 साल के बाद पैसे निकालने के बाद टैक्स नहीं लगेगा।


वीडियो देखें