Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: गोल्ड बॉन्ड स्कीम से कैसे बचाएं टैक्स

प्रकाशित Sat, 12, 2015 पर 15:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अगर टैक्स का मतलब आपके के लिए टेंशन है तो हम हाजिर है आपकी टैक्स से जुड़ी टेंशन दूर करने के लिए। टैक्स गुरु है आपका पर्सनल टैक्स गाइड जो करता है टैक्स से जुडी हर छोटी-बड़ी परेशानी को दूर, यहां आपको मिलता है टैक्स से जुड़े हर सवाल का जबाव जो देंगे आपके टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया।


सवालः लखोटिया जी ये बताएं की सरकार द्वारा हाल में शुरू की गई गोल्ड बॉन्ड स्कीम टैक्स प्लानिंग के नजरिए से कैसी है? 


सुभाष लखोटियाः सुभाष लखोटिया के मुताबिक टैक्स प्लानिंग के नजरिए से सरकार की नई गोल्ड बॉन्ड स्कीम बिल्कुल जेम्सबॉन्ड जैसी ही है। पहले लॉट में गोल्ड बॉन्ड के लिए 63 हजार लोगों ने आवेदन किया है। इस स्कीम को अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। इसके लिए करीब 250 करोड़ रुपये के निवेश की अर्जियां आई हैं।


बता दें कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर मिलने वाला ब्याज टैक्स फ्री है। ये बॉन्ड सभी बैंक और डारघरों से खरीदे जा सकते हैं। इस बॉन्ड में एनआरआई को निवेश की इजाजत नहीं है। इसमें सिर्फ इंडिविजुअल टैक्सपेयर ही निवेश कर सकते हैं। इसके तहत न्यूनतम निवेश 2 ग्राम और अधिकतम निवेश 500 ग्राम का हो सकता है। इस गोल्ड बॉन्ड स्कीम की परिपक्वता अवधि 8 साल है।


नई गोल्ड स्कीम के तहत आप बॉन्ड गिरवी रखकर लोन ले सकते हैं। ये बॉन्ड आपको डीमैट और फिजिकल फॉर्म में मिलेंगे।


सवालः अटल पेंशन योजना में टैक्स बेनिफिट मिलेगा की नहीं?


सुभाष लखोटियाः अटल पेंशन योजना में निवेश कर सकते हैं। इस निवेश पर धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट मिलेगी।


सवालः खुद के नाम पर एक प्रॉपर्टी है जिसके लिए होमलोन लिया है। क्या इससे मिलने वाला किराया पत्नी के नाम लेकर एक्स्ट्रा टैक्स छूट ले सकते हैं, प्रॉपर्टी टैक्स का क्या होगा?


सुभाष लखोटियाः किराए की आमदनी से म्युनिसिपल टैक्स घटा सकते हैं। होम लोन पर ब्याज का फायदा मिलता रहेगा। पत्नी के नाम पर किराया लेने से फायदा नहीं होगा। जिसके नाम पर प्रॉपर्टी है वही टैक्स छूट का हकदार होगा।


वीडियो देखें