Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरू की सलाह, दिखाएगी टैक्स बचाने की राह

प्रकाशित Sat, 19, 2015 पर 14:19  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी धबराने लगते हैं। कारण है कि आयकर कानूनों में इतने सारे पेंच है कि किसी के लिए भी इन्हें समझना टेढ़ी खीर साबित हो सकती है। ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर। आज आपके टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगे टैक्स गुरू सुभाष लखोटिया।


सवालः पैरेंट्स अगर अपनी बेटी को उसकी शादी में कोई फाइनेंशियल प्रोडक्ट गिफ्ट के तौर पर दें, तो उसपर किस तरह से टैक्स लगेगा?


सुभाष लखोटियाः आज कल बेटी की शादी में गिफ्ट के तौर पर फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स देने का रुझान बढ़ा है। मां-बाप बेटी को इंश्योरेंस पॉलिसी या एसआईपी दे रहे हैं। आपको बता दें की बेटी के इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम देने पर पिता को 80 सी का फायदा मिलेगा। गिफ्ट के तौर पर सिंगल प्रीमियम पॉलिसी देना बेहतर होता है। ध्यान रखें कि प्रीमियम सम अश्योर्ड के 10 फीसदी से ज्यादा न हो। लंबे समय की सिंगल प्रीमियम इंश्योरेंस पॉलिसी देना अच्छा विकल्प है।


गौरतलब है कि बेटी को गिफ्ट के तौर पर एसआईपी देनें से पेरेंट्स को टैक्स छूट नहीं मिलेगी। लेकिन बेटी को गिफ्ट के तैर पर एसआईपी देने से उसकी निवेश की आदत जरूर बनेगी। ये भी बता दें की बेटी को तोहफे में गहने देन से कोई टैक्स छूट नहीं मिलेगी। इसलिए बेटी को रोजाना इस्तेमाल के लिए थोड़ी ज्वेलरी दें। भविष्य के लिए गहनों के बजाय गोल्ड बॉन्ड दें।


सवालः मुझे अमेरिकी कंपनी से ईएसओपी के तहत मिले स्टॉक्स पर डिविडेंड मिल रहा है। क्या इस पर टैक्स लागू होगा?


सुभाष लखोटियाः विदेशी कंपनियों से मिला डिविडेंड इनकम में जुड़ता है जिसपर आपको टैक्स देना होगा।


सवालः मुझे पेंशन से आय होती है। क्या अपने बेटे को दुकान खरीदने के लिए लोन दे सकते हैं या गिफ्ट के रूप में पैसे दे सकते हैं?


सुभाष लखोटियाः आप अपने बेटे को बिना किसी दिक्कत के लोन दे सकते हैं। लोन पर ब्याज लेना या नहीं लेना आप पर निर्भर है। आप अपने बेटे को गिफ्ट के तौर पर भी पैसे दे सकते हैं।


वीडियो देखें