Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

सेबी बोर्ड में बड़े फैसले, कॉरपोरेट बॉन्ड पर सख्ती

प्रकाशित Tue, 12, 2016 पर 09:47  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्केट रेगुलेटर सेबी ने कई अहम फैसले लिए हैं। सेबी ने कॉर्पोरेट बॉन्ड पर सख्ती दिखाते हुए म्युचुअल फंड को निर्देश दिए हैं कि वो इनमें अपना निवेश कम करें। साथ ही, कुछ शर्तों के साथ नाराज या असहमत शेयरहोल्डरों को कंपनी से निकलने की इजाजत दे दी है।


सेबी ने फैसला किया है कि अब एक इश्यू में एनएवी के 10 फीसदी से ज्यादा निवेश नहीं कर सकेंगे, लेकिन जरूरत पड़ने पर अधिकतम 12 फीसदी निवेश मुमकिन होगा। वहीं एक सेक्टर के बॉन्ड में एक्सपोजर 30 फीसदी से घटाकर 25 फीसदी किया गया है। ग्रीन बॉन्ड में निवेश बढ़ाने पर सेबी को डिस्क्लोजर देना होगा।


सेबी ने एग्जिट ऑप्शन को आसान करने का फैसला किया है। कंपनी का लक्ष्य बदलने या प्रोमोटर की तरफ से नए मौके मिलने पर बाहर निकला जा सकता है। सेबी के फैसले से निवेशकों के लिए जोखिम कम होगा।


डेट म्युचुअल फंड की ओर से सेक्टर, ग्रुप और कंपनी में पैसा लगाया जाता है और इनकी क्रेडिट रेटिंग खराब होने का खतरा रहता है। वहीं डेट फंड में म्युचुअल फंड इन कंपनियों या संस्थाओं को पैसे देती हैं, लिहाजा सेबी के नए नियमों से निवेशकों का पैसा सुरक्षित होगा। दरअसल सेबी ने जेपी मॉर्गन के एम्टेक ऑटो में फंसे पैसे से सबक लेते हुए नए नियम बनाने की बात कही जा रही है।


वीडियो देखें