Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनीः कैसे चुनें हेल्थ और टर्म प्लान

प्रकाशित Sat, 23, 2016 पर 12:51  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंश्योरेंस का सबसे जरूरी फीचर होता है, सुरक्षा ना की निवेश। लेकिन कई बार हम इस बात को समझ नही पाते और इंश्योरेंस में ज्यादा रिर्टन की उम्मीद के चक्कर में निवेश कर बैठते हैं। योर मनी में हमारा फोकस होगा इंश्योरेंस पर और इसकी बारीकियां जानेंगे पॉलिसी बाजार डॉट कॉम के को-फाउंडर और सीईओ यशीष दहिया से।


सवालः हेल्थ इंश्योरेंस और टर्म प्लान लेना है। हेल्थ इंश्योरेंस के लिए मैक्स बूपा और सिग्ना टीटीके हेल्थ इंश्योरेंस का चुनाव किया है। जबकि टर्म प्लान के लिए रेलिगेयर टर्म इंश्योरेंस को चुना है। क्या प्लान अच्छे हैं? क्या सरकारी कंपनियों से इंश्योंरेंस लेना बेहतर होता है?


यशीष दहियाः सरकारी या निजी इंश्योंरेंस कंपनी से कोई फर्क नहीं पड़ता है। उम्र, आय, मेडिकल हिस्ट्री और जरुरत देखकर प्लान लेना चाहिए। हेल्थ इंश्योंरेंस प्लान की सभी शर्तों को अच्छे से देख लेना चाहिए। मेट्रो शहरों में कम से कम 10 लाख रु का प्लान लें और छोटे शहरों में 5 लाख रु का प्लान लें। टर्म प्लान ऑनलाइन लेना बेहतर होगा। टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले सभी प्लान की तुलना जरुर करनी चाहिए।  


सवालः ओरिएंटल इंश्योंरेंस की 4 लाख रु की फैमिली फ्लोटर पॉलिसी है, जबकि कंपनी से 5 लाख रु का मेडिकल इंश्योंरेंस मिला हुआ है, पिता को दिल की बीमारी है, क्या बीमा राशि बढ़ाना चाहिए?


यशीष दहियाः पिता की बिमारी के लिए आप पॉलिसी टॉप-अप ले सकते हैं। पॉलिसी टॉप-अप के लिए फिर से मेडिकल करवाना होगा। मौजूदा इंश्योंरेंस प्लान में आपको बने रहना चाहिए और हेल्थ इंश्योंरेंस का कवर बढ़ाकर आपको 10-15 लाख रु करना चाहिए। नई पॉलिसी आप किसी दूसरी कंपनी से ले तो बेहतर होगा। 
  
वीडियो देखें