योर मनी: कैसे करें पीएफ से एनपीएस में पैसे ट्रांसफर -
Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

योर मनी: कैसे करें पीएफ से एनपीएस में पैसे ट्रांसफर

प्रकाशित Fri, 10, 2017 पर 16:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी करेगा आपकी कम्पलिट फाइनेंशिंयल प्लानिंग और बताएगा आपको अपनी जिंदगी के हर बड़े और अहम लक्ष्य के लिए आप कैसे तैयार रहें और इसमें आपकी मदद करेंगे वाइसइन्वेस्ट एडवाइर्ज के हेमंत रुस्तगी


कैसे करें पीएफ से एनपीएस में पैसे ट्रांसफर 

अब पीएफ से एनपीएस में पैसा ट्रांसफर करना मुमकिन है। पीएफ से पैसा ट्रांसफर के लिए टीयर-1 अकाउंट होना जरूरी है। आप कंपनी या एनपीएस की वेबसाइट से एनपीएस अकाउंट खोल सकते हैं। पैसे ट्रांसफर के लिए आपको कंपनी के जरिए पीएफ ऑफिस में अर्जी देनी होती है। और फिर अर्जी देने के बाद पीओपी के जरिए एनपीएस अकाउंट में पैसे चले जाते हैं। पीएफ से एनपीएस में पैसे ट्रांसफर करने पर कोई टैक्स नहीं लगता है।


क्या बेहतर पीएफ या एनपीएस

दरों में कटौती के बावजूद पीएफ अभी भी निवेश का लोकप्रिय जरिया है। पीएफ में टैक्स फ्री रिटर्न मिलता है। पीएफ में प्री-टैक्स रिटर्न 9.60 फीसदी से 12.5 फीसदी के बीच मिलता है। पीएफ के मुकाबले एनपीएस के रिटर्न ज्यादा बेहतर होते हैं। एनपीएस में 50 हजार रुपये की अतिरिक्त टैक्स छूट मिलती है। एनपीएस से मिले 20 फीसदी पैसे पर टैक्स लगता है। एनपीएस और पीएफ दोनों में निवेश करना चाहिए।


सवालः मेरी उम्र 28 साल और आय प्रति माह 22000 रुपये है। मैं आईसीआईसीआई फोकस ब्लूचिप इक्विटी फंड, एचडीएफसी मिडकैप ऑप., आईसीआईसीआई वैल्यू डिस्कवरी फंड, आईसीआईसीआई लॉन्ग टर्म टैक्स सेवर इक्विटी फंड, एक्सिस लॉन्ग टर्म टैक्स सेवर इक्विटी फंड, रिलायंस स्मॉलकैप फंड में निवेश करता हूं। वहीं एलआईसी जीवन आनंद पॉलिसी में 9000 रुपये प्रति सालाना, पीपीएफ में 500 रुपये प्रति माह प्रीमियम भरता हूं। 20 साल में घर खरीदना है जिसके डाउन पेमेंट के लिए 80 लाख रुपये चाहिए, क्या मौजूदा निवेश से लक्ष्य हासिल हो पाएगा?


सलाहः एसआईपी से लंबी अवधि के लिए पैसे जमा करना आसान है। निवेश में महंगाई का भी ध्यान रखना जरूरी है। घर खरीदने का लक्ष्य को पूरा करने के लिए आपको 2000 रुपये प्रति माह का निवेश करना होगा और इमरजेंसी फंड बनाना होगा। आपको लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस भी खरीदना होगा और शादी के बाद अपने लक्ष्य और जरूरतों की समीक्षा करनी होगी। लंबी अवधि के लिए जीवन आनंद में निवेश सही नहीं होगा।