Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः जानें टैक्स के हर छोटे-बड़े नियमों का ब्यौरा

प्रकाशित Sat, 11, 2017 पर 13:04  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स गुरु में हम आपको देंगे टैक्स से जुड़े नियमों की जानकारी और साथ ही देंगे आपको सवालों के जबाव और इसमें हमारी मदद करेंगे टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल।


80सी के आलावा कैसे मिलेगा और टैक्स छूट :-

80सी के अलावा भी टैक्स छूट मिल सकती है। करदाता 80सीसीडी के तहत और टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं। एनपीएस में निवेश कर 50,000 रुपये तक का अतिरिक्त टैक्स छूट ले सकते हैं। एनपीएस यानि नेशनल पेंशन सिस्टम। असेसमेंट ईयर 2016-17 से ही 80सीसीडी में अतिरिक्त टैक्स छूट मिलती है।

आप अपने कुल वेतन का 10 फीसदी एनपीएस में निवेश कर सकते हैं। आपका एम्लॉयर भी एनपीएस में 10 फीसदी की निवेश कर सकता है। 80डी के तहत भी आपको अतिरिक्त टैक्स छूट मिल सकती है। मेडिकल इंश्योंरेंस के प्रीमियम को 80डी में दिखाएं। माता-पिता के मेडिकल इंश्योरेंस के प्रीमियम पर भी टैक्स छूट पा सकते हैं। 80डी के तहत करीब 55,000-65,000 रुपये की और टैक्स छूट संभव है।    


क्या बॉन्ड के निवेश पर लगेगा टैक्स :-

बॉन्ड से मिली रकम पर टैक्स की गणना को लेकर मतभेद है। सीबीडीटी डिस्काउंट बॉन्ड की रकम को ब्याज मानता है। सीबीडीटी के हिसाब से 20.6 फीसदी के हिसाब से टैक्स देना होगा, लेकिन अदालत इस बारे में विपरित फैसला कर चुकी है। मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के मुताबिक मैच्योरिटी की रकम को कैपिटल गेन माना गया है। सेक्शन 112 के तहत इस पर 10.3 फीसदी की टैक्स देनदारी बनती है। इसमें सेक्शन 48 के तहत इंडेक्सेशन का फायदा नहीं मिलेगा। 


कैसे उठाएं सुकन्या समृध्दि योजना का फायदा :-

सुकन्या समृध्दि योजना और पीपीएफ दोनों से मिलने वाला ब्याज टैक्स फ्री होता है। और दोनों में ही अच्छा ब्याज मिलता है। सुकन्या समृध्दि योजना और पीपीएफ इन दोनों में 1.5 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं। इनमें 80सी के तहत टैक्स छूट 1.5 लाख तक ही मिलेगी। 


कैसे मिलेगा एचआरए का फायदा :-

सेक्शन 80जीजीके तहत एचआरए का फायदा मिल सकता है। किराया अगर सैलरी का 10 फीसदी या ज्यादा है तो छूट मिलेगी। सैलरी के 10 फीसदी से ज्यादा जो भी किराया है उस पर टैक्स छूट मिल सकता है।