Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ब्रांड बाजारः डिजिटल प्लैटफॉर्म पर लोकल कॉन्टेंट की धूम

प्रकाशित Sat, 18, 2017 पर 13:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एक बड़ी आबादी और हजार से ज्यादा भाषा के साथ भारत में हर एक ग्राहक तक पहुंचना मुश्किल है। इसलिए ज्यादा लोगों तक पहुंचने के लिए ब्रांड्स लोकलाइजेशन का तरीका अपनाते आ रहे हैं। प्रोडक्ट के साथ-साथ बड़े-बड़े ब्रांड्स अब मार्केटिंग और प्रोमोशन पर भी रीजनल तड़का मार रहे हैं। रिजनल मार्केटिंग से ब्रांड्स कैसे फायदा उठा रहे हैं।


प्रोडक्ट हो या उसकी मार्केटिंग या विज्ञापन, ब्रांड्स जितना ग्लोबल उतना लोकल के मोटो के साथ आगे बढ़ रहे हैं। अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए ब्रांड्स हर प्लाटफॉर्म पर लोकल जनता से कनेक्ट बनाने पर जोर दे रहे हैं। जिस वजह से बढ़ावा मिल रहा है रीजनल कॉन्टेंट को, खास कर डिजिटल प्लाटफॉर्म पर। अलग-अलग भाषाओं में मार्केटिंग करनी हो या अपने विज्ञापन को रीजनल सेलेब्रिटी से करवाना, अपनी जनता तक पहुंचने के लिए ब्रांड्स हर तरीका अपना रहे हैं।


बड़े ब्रांड अपने प्रचार के लिए इलाके के हिसाब से सेलेब्रिटी चुनते हैं। जहां उत्तर भारत के लिए थम्स अप बॉलीवुड स्टार से प्रचार करवाता है वहीं दक्षिण भारत में थम्स अप के प्रचार तेलगू या तामिल फिम्ल स्टार करते नजर आते हैं। छोटे ब्रांड के लिए और भी जरूरी हो जाता है कि वो एसे ही अपने विज्ञापन को लोकलाइज करें। और ऐसा ही कुछ इंटेक्स ने भी किया, हर रीजन के सेलेब्रिटी से अपना मोबाइल फोन एंडोर्स करवाकर।


अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए प्रचार के अलावा अब ब्रांड्स लोकल कॉन्टेंट बनाने पर भी ध्यान दे रहे हैं। ओटीटी ऐप्स जैसे नेटफ्लिक्स, एमेजॉन प्राइम और सोनी लिव रीजनल फिल्मों और वेब सीरीज से लोगों का दिल जीतने की तैयारी कर रहे हैं। अमेरिका का वीडियो ऑन डिमांड ऐप नेटफिल्क भारते में अपनी रीच बढ़ाने के लिए इंडियन कॉन्टेंट को भी जगह दे रहा है।


देश विदेश में सबको दीवाना कर देने वाली माराठी लव स्टोरी सैराट भी नेटफ्लिक्स पर मौजूद है। अमेजॉन प्राइम भी अमेरिकी टेलीविजन सीरीज के साथ-साथ हिंदी कॉन्टेंट बनाने पर फोकस कर रहा है। इसके लिए कई जाने-माने बॉलीवुड स्टार और फिल्म मेकर साथ मिलकर काम करने की तैयारी कर रहे हैं। रीजनलाइजेशन पर ही फोकस देने के लिए सोनी पिक्चर्स का वीडियो ऑन डिमांड डिजिटल प्लाटफॉर्म सोनी लिव भी योलो नाम की मराठी सीरीज लेकर आया, इस वेब सिरीज को अब तक करीब 3 मिलियन लोग देख चुके हैं।


नास्कॉम-अकमाई टेक्नोलॉजी की रिपोर्ट की मानें तो 2020 तक करीब 73 करोड़ लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करने लगेंगे। जिसमें से करीब 75 फीसदी नए इंटरनेट यूजर ग्रामीण इलाकों से होंगे जो रिजनल कॉन्टेंट देखना पसंद करेंगे। मोबाइल फोन और इंटरनेट की बढ़ती पहुंच से ब्रांड्स का डिजिटल पर खर्च भी बढ़ रहा है। ग्रुप एम की रिपोर्ट के मुताबिक 2016 में डिजिटल माध्यम पर खर्च करीब 13.5 फीसदी बढ़ा था और 2017 में ये खर्च 30 फीसदी बढ़कर साढे 9 हजार करोड़ तक पहुंच सकता है।


मोबाइल फोन और इंटरनेट की बढ़ती पहुंच के साथ रीजनल कॉन्टेंट की मांग भी बढ़ रही है। फिलहाल मार्केट में रीजनल कॉन्टेंट वाले कुछ ही ऐप्स हैं लेकिन आने वाले सालों में ज्यादातर ब्रांड प्रोडक्ट लोकल होते दिखेंगे।