Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डाः उपचुनाव में बीजेपी का दम, क्या देश में मोदी लहर बरकरार है!

प्रकाशित Thu, 13, 2017 पर 21:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दिल्ली से असम तक मोदी लहर बरकरार दिख रही है। 10 सीटों में हुए उपचुनाव में 5 सीटों पर कमल खिला है जबकि 3 सीटें कांग्रेस के खाते में गई हैं। लेकिन सबसे चौंकाने वाले नतीजे रहे दिल्ली के। राजौरी गार्डन सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत दर्ज की। आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जमानत तक जब्त हो गई। कांग्रेस दूसरे नंबर पर आई है। इस सीट को एमसीडी चुनाव के सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा था। बड़ा सवाल ये है कि क्या दिल्ली के दिल से केजरीवाल उतर रहे हैं या सिर्फ एक सीट के नतीजे से किसी नतीजे पर पहुंचा जा रहा है।


उपचुनाव में बीजेपी ने दिल्ली के राजौरी गार्डन, राजस्थान के धौलपुर, हिमाचल प्रदेश के भोरंज, मध्यप्रदेश के बांधवगढ़ और असम के धीमाजी सीट पर जीत हासिल की है। वहीं कांग्रेस ने कर्नाटक की दोनों सीटों पर कब्जा किया है, जबकि मध्यप्रदेश की अटेर सीट भी जीती है। पश्चिम बंगाल की कांठी दक्षिण सीट पर तृणमूल कांग्रेस का कब्जा हुआ है। झारखंड की लिट्टीपाड़ा सीट झारखंड मुक्ति मोर्चा ने जीती है।


दिल्ली में आम आदमी पार्टी जोर का झटका लगा है और पार्टी की राजौरी गार्डन सीट पर करारी हार हुई है। आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी की जमानत जब्त हो गई। बीजेपी-अकाली गठबंधन ने भारी मतों से जीत हासिल की, जबकि कांग्रेस दूसरे नंबर पर रही है। दरअसल आप विधायक जरनैल सिंह के इस्तीफे से यह सीट खाली हुई थी। जरनैल सिंह इस्तीफा देकर पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़े थे। इस तरह, अब 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में बीजेपी की सीटें बढ़कर 4 हो गई हैं, जबकि आप का आंकड़ा 67 से घटकर 66 हो गया है।


गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी का ग्राफ लगातार गिरता ही जा रहा है। आप को पंजाब और गोवा में अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा था। इसके साथ ही अब राजौरी गार्डन सीट की हार से अरविंद केजरीवाल की किरकिरी हो रही है। दरअसल शुंगलू समिति की रिपोर्ट में आम आदमी पार्टी सरकार पर कई गंभीर आरोप लगे हैं।


शुंगलू समिति की रिपोर्ट के मुताबिक केजरीवाल सरकार ने मनमाने तरीके से लोगों की नियुक्तियां की और केजरीवाल के करीबियों को मोटी तनख्‍वाहों पर नौकरियां दी गई हैं। बिना इजाजत आप सरकार के मंत्री विदेश दौर पर गए। आम आदमी पार्टी को अवैध तरीके से दफ्तर का आवंटन किया गया है।


वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लगातार विवादों के चलते सुर्खियों में रहते हैं। अरविंद केजरीवाल पर सरकार की पहली सालगिरह पर 11 लाख खर्च करने का आरोप है। मेहमानों को लाखों का खाना खिलाने का आरोप लगा है। बीजेपी ने आरोप लगाया है कि आप सरकार की सालगिरह पर 12020 रुपये की कीमत वाली 30 थालियां मेहमानों को परोसी गई। बीजेपी ने ये भी आरोप लगाया कि आप सरकार ने बिना एलजी की अनुमति के लाखों का खर्च किया है। मानहानि केस में जेठमलानी को सरकारी खजाने से फीस देने का विवाद भी पुराना नहीं है। अरविंद केजरीवाल 3 करोड़ रुपये से ज्यादा की फीस देने के मामले में कठघरे में हैं।


10 दिन बाद दिल्ली नगर निगम यानि एमसीडी के चुनाव होने जा रहे हैं। दिल्ली में 3 नगर निगम हैं और तीनों नगर निगम पर 10 साल से बीजेपी का कब्जा है। दिल्ली नगर निगम में कुल 272 वार्ड हैं। दिल्ली नगर निगम के चुनाव 23 अप्रैल को होंगे और 25 अप्रैल को नतीजों का एलान होगा।


एमसीडी चुनाव पर एबीपी न्यूज-सी वोटर का सर्वे सामने आया है। इस सर्वे के मुताबिक दिल्ली एमसीडी चुनाव में कमल खिलेगा। तीनों नगर निगम बीजेपी जीत सकती है। दिल्ली के सभी 272 वार्डों में 6213 वोटरों से बात की गई। अप्रैल के पहले और दूसरे हफ्ते में ये बात की गई है। ईस्ट दिल्ली में बीजेपी 38 फीसदी लोगों की पसंद है, जबकि ईस्ट दिल्ली में आप और कांग्रेस 21-21 फीसदी लोगों की पसंद है। नॉर्थ दिल्ली में बीजेपी और आप में कड़ी टक्कर है, जबकि साउथ दिल्ली में बीजेपी नंबर वन पार्टी बनकर सामने आएगी। इस सर्वे में 80 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी के काम पर खुशी जताई है।