ई-रिटर्न के लिए आधार जरुरी, कैसे दूर होगी उलझन -
Moneycontrol » समाचार » निवेश

ई-रिटर्न के लिए आधार जरुरी, कैसे दूर होगी उलझन

प्रकाशित Sat, 15, 2017 पर 13:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकार के आधार कार्ड को पैन कार्ड से जोड़ना अनिवार्य करने के बाद बड़े पैमाने पर लोग उलझन में हैं। दरअसल, दोनों कार्ड के लिए दिए गए डिटेल्स में कोई भी अंतर होने पर ये काम नहीं हो पा रहा है। लेकिन अब लोगों की बढ़ती शिकायतों को देखते हुए इनकम टैक्स विभाग ने आधार को पैन से जोड़ने की प्रक्रिया आसान बना दी है। और आपकी इसी उलझन को आज योर मनी सुलझाएगा। हम आपको विस्तार से समझाएंगें, की आधार को पैन से जोडना क्यों जरूरी है, और इसे कैसे करना चाहिए। मेरे साथ इस खास चर्चा में जुड रहे हैं फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या और एटिका वेल्थ मैनेजमेंट के डायरेक्टर एंड चीफ फाइनेंशियल प्लानर निखिल कोठारी।


फाइनेंशियल प्लानर अर्णव पंड्या का कहना है कि सरकार ने एक नया प्रावधान किया है कि 1 जुलाई 2017 से टैक्स रिटर्न भरने के लिए आधार को पेन से जोड़ना जरूरी है। क्योंकि हमने देखा है कि नोटबंदी की सारी प्रक्रिया के बाद भी आईटी विभाग इस बात का पुख्ता तथ्य नहीं तलाश कर पा रही है कि कई अकाउंट जचो कई पेन से लिंक है उनके प्रॉसेस क्या है। जिसके चलते सरकार ने पारदर्शिता लाने के लिए  टैक्स रिटर्न भरने के लिए आधार को पेन को जोड़ना अनिवार्य किया है।


अर्णव पंड्या के मुताबिक आधार को पेन से जोड़ने से रिटर्न फाइल करना आसान है। आधार और इनकम टैक्स की जानकारी मेल खानी चाहिए। जानकारी मेल खाने पर ई-फाइलिंग के जरिए आधार-PAN जोड़ सकते हैं। जानकारी ना मेल खाने पर आधार वेबसाइट पर ठीक कर सकते हैं।


आधार को पेन से जोडने के लिए ई-फाइलिंग पोर्टल पर आधार जोड़ने का विकल्प है। जिसपर बिना नाम बदले ओटीपी का ऑप्शन चुनें और आधार कार्ड और पेन कार्ड में दर्ज जन्मतिथि बताएं। मोबाइल फोन पर आए ओटीपी को डालें।


निखिल कोठारी का कहना है कि जब आधार से पेन को लिंक किया जा रहा है तो 3 बातें जरुर ध्यान में रखें। पहला आपका नाम, दूसरा जेंडर और तीसरा जन्मतीथि को देखा जाता है। इसलिए पेन को आधार से लिंक करने के लिए आधार वेबसाइट पर लॉग इन करें और नाम बदलने की रिक्वेस्ट दर्ज करें। पेन कार्ड की स्कैन्ड कॉपी अपलोड करें। आधार में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर चालू होना चाहिए।