Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

पूरे देश में एक कीमत पर मिलेंगे सोने के गहने

प्रकाशित Sat, 15, 2017 पर 13:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जीएसटी लागू होने के बाद पूरे देश में एक समान कीमत पर सोने के गहने मिलेंगे। सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक जीएसटी के तहत सोने के गहने पर टैक्स की दर 3-4 फीसदी के बीच रह सकती है। यानी सोने के गहने के लिए अलग टैक्स स्लैब रखा जाएगा।


बड़ी मात्रा में सोने के गहने खरीदने वाले अक्सर ये हिसाब लगाते हैं कि खरीदारी कहां से की जाए। और कहां ये सस्ता होगा। लेकिन पहली जुलाई के बाद यानी जीएसटी लागू होने के साथ ही कम से कम इस झंझट से छुटकारा मिल जाएगा। क्योंकि जीएसटी के तहत सभी राज्यों में सोने के गहने पर एक समान ड्यूटी लगेगी। दूसरे शब्दों में कहें तो दिल्ली जैसे राज्यों में सोने के गहनों के दाम अभी के मुकाबले ज्यादा हो सकते हैं जबकि केरल जैसे राज्यों में ये कम हो सकते हैं।


दरअसल अभी सोने के गहने पर केंद्र सरकार 1 फीसदी एक्साइज ड्यूटी लगाती है जो पूरे देश में एक समान होता है। लेकिन हर राज्य सरकार अलग-अलग वैट लगाती है। मसलन दिल्ली में 1 फीसदी, तो केरल में 5 फीसदी, महाराष्ट्र में 1.2 फीसदी। ऐसे में हर राज्य में ज्वैलरी के दाम अलग-अलग हो जाते हैं। जीएसटी के तहत एक समान टैक्स तो लगेगा ही। लेकिन सबसे अहम बात ये है कि सूत्रों के मुताबिक जीएसटी के तहत टैक्स की ये दर 3-4 फीसदी के बीच हो सकती है। मान लीजिए कि ये 3 फीसदी होगा तो दिल्ली में ज्वैलरी 1 फीसदी महंगी हो जाएगी जबकि केरल में 2 फीसदी सस्ती हो जाएगी।


जीएसटी के तहत सोने के गहने पर टैक्स की दर क्या हो, इसे लेकर ना सिर्फ इंडस्ट्री के बीच मतभेद है बल्कि राज्य सरकारों के बीच भी मतभेद है। हालांकि अंतिम फैसला जीएसटी काउंसिल को लेना है। लेकिन इतना तय है कि जीएसटी के तहत सोने के गहने के लिए अलग से टैक्स स्लैब की व्यवस्था होगी।


हालांकि एक विकल्प ये भी है कि इंपोर्ट ड्यूटी 10 फीसदी से घटाकर 6 फीसदी कर दिया जाए और इसके अनुपात में जीएसटी रेट बढ़ा दिया जाए। दूसरी दलील ये है कि 12 फीसदी रेट तय किया जाए। क्योंकि जीएसटी लागू होने के बाद इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलना शुरू हो जाएगा इसलिए कंज्यूमर पर बोझ नहीं पड़ेगा। फिलहाल इन विकल्पों को लेकर सरकार गंभीर नहीं दिख रही है क्योंकि सरकार की कोशिश है जीएसटी को जहां तक संभव हो सके बगैर किसी बड़े बदलाव के साथ पहले लागू किया जाए।