बेहतर ग्रोथ की उम्मीद, भारतीय बाजार को मिलेगा सहारा -
Moneycontrol » समाचार » बाजार आउटलुक- फंडामेंटल

बेहतर ग्रोथ की उम्मीद, भारतीय बाजार को मिलेगा सहारा

प्रकाशित Tue, 18, 2017 पर 10:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

केआर चोकसी इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स के एमडी, देवेन चोकसी का कहना है कि ग्लोबल जियो पॉलिटिकल टेंशन बढ़ने से बाजार पर दबाव जरूर बढ़ा, लेकिन बेहतर लिक्विडिटी की स्थिति ने घरेलू बाजारों को काफी सहारा दिया है। साथ ही भारतीय इकोनॉमी और बाजार में लिस्टेड कंपनियों से अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है, ऐसे में घरेलू बाजारों के लिए चिंता थोड़ी कम हुई है। यही नहीं बेहतर ग्रोथ के संकेतों से आने वाले दिनों में भी भारतीय बाजारों में निवेश बढ़ने की उम्मीद है।


देवेन चोकसी के मुताबिक मौजूदा स्थिति को देखते हुए बाजार में थोड़ा सतर्क रुख अपनाना चाहिए। लेकिन, बाजार में आने वाली हर गिरावट में खरीदारी का अच्छा मौका होगा। वहीं, आगे ग्लोबल जियो पॉलिटिकल टेंशन बढ़ती हुई दिखाई भी दी तो इसका असर बाजार में 7-15 दिनों से ज्यादा नहीं देखने को मिलेगा। दरअसल ग्लोबल मार्केट नहीं चाहेंगे कि वो लगातार युद्ध के साए में रहकर कारोबार करें। ग्लोबल जियो पॉलिटिकल टेंशन बढ़ने से बाजार में गिरावट जरूर दिख सकती है, लेकिन ये गिरावट इतनी बड़ी नहीं होगी कि जो चिंता का माहौल बना सके।


देवेन चोकसी ने ये भी कहा कि निवेश के लिहाज से अगले 5-10 सालों के लिए निवेशकों का भारतीय बाजारों पर पॉजिटिव नजरिया बना हुआ है। रियल एस्टेट कंपनियों के लिए बेहतर ग्रोथ नजर आ रही है, लेकिन हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों पर ज्यादा बुलिश नजरिया है। अगले 5 सालों में सालाना आधार पर हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों में 20-25 फीसदी की ग्रोथ संभव लग रही है। एनबीएफसी शेयरों में भी अच्छी ग्रोथ देखने को मिल सकती है।


देवेन चोकसी का मानना है कि छोटे सरकारी बैंकों के बैंलेंसशीट को लेकर वाकई में दिक्कत बनी हुई है, ऐसे में अगर सरकार इन बैंकों में ज्यादा पूंजी डालने का फैसला करती है तो रिवाइवल नजर आ सकता है। एसबीआई को मर्जर का फायदा मिलेगा, और आगे इसी तरह के बड़े बैंकों के साथ ज्यादा से ज्यादा छोटे बैंकों के मर्जर देखने को मिलते हैं तो इससे जरूर फायदा होगा। मौजूदा माहौल में दिग्गज बैंकों में ही निवेश करने का मौका है और छोटे तथा कमजोर एसेट क्वालिटी वाले पीएसयू बैंक शेयरों से दूर रहने में ही समझदारी है।