Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आवाज़ आंत्रप्रेन्योरः होम ऑटोमेशमन में कमाल

प्रकाशित Sat, 13, 2017 पर 12:52  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मोबाइल के जरिए घर की सिक्योरीटी का ध्यान रखना या फिर बैठे बैठे घर की लाइट्स, एसी, ऐसे ऑपरेट करना। लाइटिंग, सिक्योरिटी, ओडियो/वीडियो और एचवीएसी जिसमें हिटीग, वेंटिलेटिंग और एयर कंडिशनि शामिल है. इन चार कैटेगरीज में ऑटोमेशन प्रोडक्ट्स का कमाल हमें देखने को मिलता है और बढ़ते अर्बनाइजेशन में ये काफी डिमांड में है। 


बंगलुरू की सिल्वान इनोवेशन लैब आज भारतीय होम ऑटोमेशन इंडस्ट्री में लिड़ींग ब्रांड है। अविनाश के गौतम, गिरिधर क्रिश्चिया, जी मोहन, अजय गुप्ता इन चारों ने मिलकर कंपनी की शुरूआत हुई। 2008 में मुंबई में हुए आंतकवादी हमले के दौरान सुरक्षा को लेकर चिंता का माहोल छाया हुआ था। तब फाउंडर्स को सिक्योरीटी सेगमेंट में कारोबार शुरू करने का मौका नजर आया। और धीरे-धीरे बिजनेस का फोकस सिक्योरीटी के साथ ऑटोमेशन बन गया हैं।


होम ऑटोमेशन में सिलवन की टीम के सामने सबसे बडी चुनैती थी उनके प्रोडक्ट घर के हर सदस्य के लिए बने। यानि बच्चे बुजुर्ग टेक को कम समझनेवाले सभी तरह के भारतीय कंज्यूमर प्रोडक्ट को इस्तमाल कर सकें। साथ ही भारतीय बाजार के पावर इंफ्रास्ट्रक्चर  और इंटरनेट कनेक्टिविटी को जहन में रखकर इस फाउंडिंग टीम ने अपने प्रोडक्ट डिजाईन और डेवलप किए। 


कंपनी के पास घर के सिक्योरीटी के लिए डियो डोर बेल, डिजिटल लॉक, सीसीटीवी कैमरा, सेफ्टी एंड सेफ्टीके लिए पैनीक बटन, हीट, गैस लिक डिटेक्टर, मॉशन सेंसर जैसे प्रोडक्ट्स है। वही  डिवाइस मैनजमेंट में  लाइट्स, एसी, टीवी को फोन पर कंट्रोल करने की सुविधा है।


कंपनी ने वॉइस कमांड्स पर चलने वाले ऑटोमेशन सिस्टम को भी लॉन्च किया है। एलेक्सा ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाला ये डिवाइस आपके आवाज पर काम करता है।


सिलवन लैब्स ने कारोबार की शुरूआत बी2बी से की यानि दूसरें बिजनेस को सर्विस करने के साथ की। रियल एस्टेट के बड़े नाम जैसे लोढा, टाटा, शोभा जैसे 35 डेवलपर्स के प्रोजेक्टस में कंपनी के प्रोडक्ट्स इंस्टॉल हुए हैं। और जैसे जैसे लोगो की दिल्चस्पी होम ऑटोमेशन में बढी कंपनी ने पिछले साल कंज्यूमर रेंज लॉन्च की। हांलाकी कंपनी की आमदनी का बडा हिस्सा 90 फीसदी अभी भी बी2बीसे ही आता हैं। कंपनी धीरे धीरे बी2सी सेगमेंट में अपना मार्केट शेयर बढाना चाहती हैं। जिसके लिए कंपनी ने 7 सालों में पहली बार संस्थागत फंड जुटाया है।
 
बी2सी में कदम रखने के साथ अब कंपनी होम ऑटोमेशन से  ऑफिस, बैंक, एटीएम, रिटेल सेक्टर्स में ऑटोमेशन सोल्यूशंस प्रोवाइडर के तौर पर विस्तार करने जा रही है।


इस्तेमाल में आसान टेक्नोलॉजी डेवलप करते हुए, कंज्यूमर को ऑटोमेशन प्रोडेक्ट के प्रति जागरुक करना कंपनी के सामने बड़ा चैलेंज है। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत का होम ऑटोमेशन मार्केट 2017 में 8800 से 2022 तक 30000 करोड़ तक बढ़ने का अनुमान है। यानि लग्जरी समझे जाने वाले इस प्रोडक्ट कैटगरी को समय के साथ, सिक्योरीटी के लिहाज से आम जरुरत की कैटेगरी में आते हुए देर नही लगेगी और यही मौका है, छोटे बिजनेसेज को बड़ा बनने का।