योर मनीः जानिए होम लोन से जुड़ी तमाम बातें -
Moneycontrol » समाचार » कर्ज

योर मनीः जानिए होम लोन से जुड़ी तमाम बातें

प्रकाशित Wed, 17, 2017 पर 14:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सस्ता लोन.....प्रॉपर्टी बाजार में सुस्ती और सरकारी सब्सिडी.....घर खरीदने वालों के लिए एक साथ तीन सौगातें मिली हैं। होम लोन की दरें 10 साल के निचले स्तर पर हैं, प्रॉपर्टी के दाम भी काफी घटे हुए हैं। उस पर सरकार अफोर्डेबल हाउसिंग के लिए सब्सिडी दे रही है घर खरीदारों के लिए इतना सुनहरा मौका कई सालों बाद मिला है और इसलिए आपके घर के सपने के साकार कराने के लिए योर मनी लाया है ये खास शो जिसमें हम आपको बताएंगे होम लोन से जुड़ी तमाम बातें और कराएंगे आपके होम लोन की प्लानिंग और इसमें हमारी मदद करेंगे फाइनेंशियल प्लानर मेहुल अशर।


दरअसल 12 सालों में सबसे सस्ता होम लोन मिल रहा है और आप प्रधानमंत्री आवास योजना का फायदा भी उठा सकते हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना में लोन पर सब्सिडी दी जा रही है। 18 लाख रुपये तक कमाई वालों को सस्ता लोन दिया जा रहा है। साथ ही नोटबंदी के बाद से प्रॉपर्टी के दाम में गिरावट देखने को मिल रही है। यही नहीं बिल्डर अफोर्डेबल प्रोजेक्ट की ओर मुड़े हैं। इसके अलावा रेरा आने से रियल एस्टेट में धोखाधड़ी की आशंका कम होगी।


होम लोन की ब्याज दरों पर गौर करें तो एसबीआई 8.35 फीसदी की दर से होम लोन दे रहा है, जबकि एचडीएफसी का होम लोन 8.5 फीसदी की दर से मिल रहा है। पीएनबी भी 8.5 फीसदी की दर से होम लोन दे रहा है। आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक के होम लोन की ब्याज दर 8.65 फीसदी है।


इस तरह, मान लीजिए आपने 20 साल के लिए 8.35 फीसदी की ब्याज दर से 30 लाख रुपये का होम लोन लिया है, तो आपकी मासिक किस्त 25750 रुपये होगी। वहीं आपने 20 साल के लिए 8.50 फीसदी की ब्याज दर से 30 लाख रुपये का होम लोन लिया है, तो आपकी मासिक किस्त 26034 रुपये होगी। आपने 20 साल के लिए 8.65 फीसदी की ब्याज दर से 30 लाख रुपये का होम लोन लिया है, तो आपकी मासिक किस्त 26320 रुपये होगी। आपने 20 साल के लिए 8.75 फीसदी की ब्याज दर से 30 लाख रुपये का होम लोन लिया है, तो आपकी मासिक किस्त 26511 रुपये होगी।


पहले जो होम लोन 8.75 फीसदी की ब्याज दर से मिल रहा था, वहीं अब 8.35 फीसदी की ब्याज दर से मिल रहा है। ऐसे में अगर आप 20 साल के लिए 30 लाख रुपये का होम लोन 8.75 फीसदी की ब्याज दर से लेते तो आपको 26511 रुपये की मासिक किस्त देनी पड़ती, लेकिन यही होम लोन 8.35 फीसदी की ब्याज दर से मिलने पर आपकी मासिक किस्त 25750 रुपये हो जाएगी। मसलन 761 रुपये की मासिक बचत, लेकिन 20 सालों में आपकी बचत होगी 1.83 लाख रुपये।


यही नहीं प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भी होम लोन की ब्याज पर छूट दी जा रही है। मिडिल इनकम ग्रुप-1 के तहत सालाना 6-12 लाख रुपये की आय वालों के लिए 9 लाख रुपये की रकम पर ब्याज दर में 4 फीसदी की छूट दी जा रही है। 4 फीसदी की छूट से आपकी 2.35 लाख रुपये की बचत होगी। वहीं मिडिल इनकम ग्रुप-2 के तहत सालाना 12-18 लाख रुपये की आय वालों के लिए 12 लाख रुपये की रकम पर ब्याज दर में 3 फीसदी की छूट दी जा रही है। 3 फीसदी की छूट से आपकी 2.30 लाख रुपये की बचत होगी।


साथ ही होम लोन पर टैक्स छूट का भी फायदा मिलता है। होम लोन के प्रिंसिपल रीपेमेंट पर सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। घर के स्टांप ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन के खर्च पर भी सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। 1.5 लाख रुपये तक की सीमा में ही रीपेमेंट और स्टांप ड्यूटी की छूट मिलेगी। हालांकि ये छूट घर के पजेशन के बाद ही मिलती है। होम लोन के ब्याज पर सेक्शन 24 के तहत छूट मिलती है। होम लोन के ब्याज पर 2 लाख रुपये तक की टैक्स छूट मिलती है।


फाइनेंशियल प्लानर मेहुल अशर का कहना है कि जितनी चुकाने की क्षमता हो उतना ही लोन लेना चाहिए। अपने आय और बजट देखकर घर का चुनाव करना चाहिए। लोन लेने से पहले अपना सिबिल स्कोर जरुर जांच लें। अगर आपका सिबिल स्कोर खराब है तो उसे ठीक करें। लोन लेने से पहलें सभी बैंकों की दरें देख लें और फिर कम से कम अवधि के लिए लोन लें। फ्लोटिंग रेट पर होम लोन लेने में फायदा हैता है। होम लोन के लिए इंश्योरेंस भी कराएं। 


सवालः मेरी उम्र 37 साल है और मासिक आय 20000 रुपये है। बच्ची की शादी और पढ़ाई के लिए 25-30 लाख जमा करने का लक्ष्य है। 10-12 साल के लिए 10000 का निवेश करना है, लक्ष्य पूरा करने के लिए कौन से फंड में निवेश करना चाहिए?


सलाहः अपना लंबी अवधि का लक्ष्य पूरा करने के लिए इक्विटी में निवेश करें। अगर कम जोखिम लेना चाहते हैं तो डेट फंड में निवेश करें। निवेश के लिए आईसीआईसीआई बैलेंस फंड और एचडीएफसी प्रुडेंस फंड देख सकते हैं।


सवालः एक कंपनी एफडी पर 10 फीसदी का ब्याज दे रही है, क्या इसमें निवेश करना चाहिए?
   
सलाहः ज्यादा रिटर्न को देखते हुए निवेश विकल्प ना चुने और सोच-समझकर निवेश करें। सिर्फ अच्छी रेटिंग वाली कंपनियों में निवेश करे और निवेश के लिए फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह लें।