Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

इंडस्ट्री ने पकड़ी रफ्तार, अप्रैल में आईआईपी ग्रोथ 3.1%

प्रकाशित Mon, 12, 2017 पर 17:45  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आईआईपी के आकलन का बेस ईयर बदलने के बाद इंडस्ट्री की ग्रोथ में लगातार दूसरे महीने बढ़ोतरी देखने को मिली है। अप्रैल में भी आईआईपी ग्रोथ में अच्छी बढ़त नजर आई है। अप्रैल में आईआईपी ग्रोथ बढ़कर 3.1 फीसदी रही है। मार्च में आईआईपी ग्रोथ 2.7 फीसदी रही थी। हालांकि गौर करें तो पिछले साल अप्रैल में आईआईपी ग्रोथ 6.5 फीसदी रही थी।


साल दर साल आधार पर अप्रैल में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 5.5 फीसदी से घटकर 2.6 फीसदी रही है। सालाना आधार पर अप्रैल में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 6.7 फीसदी से घटकर 4.2 फीसदी रही है। सालाना आधार पर अप्रैल में इलेक्ट्रिसिटी सेक्टर की ग्रोथ 14.4 फीसदी से घटकर 5.4 फीसदी रही है।


सालाना आधार पर अप्रैल में कैपिटल गुड्स का उत्पादन 8.1 फीसदी से घटकर -1.3 फीसदी रहा है। सालाना आधार पर अप्रैल में इंटरमीडिएट गुड्स का उत्पादन 0 फीसदी से बढ़कर 4.6 फीसदी रहा है। सालाना आधार पर अप्रैल में कंज्यूमर ड्युरेबल्स का उत्पादन 13.8 फीसदी से घटकर -6 फीसदी रहा है। सालाना आधार पर अप्रैल में कंज्यूमर नॉन-ड्युरेबल्स का उत्पादन 0.1 फीसदी से बढ़कर 8.3 फीसदी रहा है।


सालाना आधार पर अप्रैल में इंफ्रा गुड्स का उत्पादन 0.8 फीसदी से बढ़कर 5.8 फीसदी रहा है। सालाना आधार पर अप्रैल में प्राइमरी गुड्स का उत्पादन 12.6 फीसदी से घटकर 3.4 फीसदी रहा है।


इधर ग्रोथ के आंकड़ों से इंडस्ट्री बहुत खुश नहीं है। उसकी मांग है कि कई सारे सेक्टरों का हाल बुरा है और आरबीआई को कर्ज सस्ता करना चाहिए। वहीं बाजार के जानकार प्रकाश दीवान का कहना है कि बाजार आईआईपी के इन आंकडों से खुश होगा। केयर रेटिंग्स के चीफ इकोनॉमिस्ट मदन सबनवीस मानते हैं कि आरबीआई अक्टूबर तक रेट कट नहीं करेगा क्योंकि महंगाई पर जीएसटी का असर देखना अभी बाकी है।