Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

जैकपॉट शेयर: कमाएं वक्त से पहले, किस्मत से ज्यादा

प्रकाशित Wed, 14, 2017 पर 09:13  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर हम एक बार फिर से लेकर आए हैं जैकपॉट शेयर, ऐसा शेयर जिसमें निवेश से आपको बंपर मुनाफा मिलेगा। जैकपॉट शेयर वो शेयर है जो लंबी अवधि में तो शानदार मुनाफा देते ही हैं, छोटी अवधि में भी निवेशकों को शानदार रिटर्न देने की क्षमता रखते हैं। यानि, मजबूत फंडामेंटल वाले ऐसे शेयर जिसमें आगे अच्छी तेजी की उम्मीद है।


आज का जैकपॉट शेयर: जेबीएम ऑटो


जेबीएम ऑटो, ऑटो एंसिलरी कंपनी है और इसका गठन 1986 में हुआ है। कंपनी मेटल कंपोनेंट और एसेंबली बनाने का काम करती है। इसके अलावा कंपनी हाई प्रेसिजन टूल मैन्युफैक्चरिंग का भी काम करती है। कंपनी के ग्राहकों में होंडा, निसान, फॉक्सवैगन, रेनो, एमएंडएम, टाटा, रॉयल एनफील्ड, अशोक लेलैंड शामिल है।


वित्त वर्ष 2017 में कंपनी का रेवेन्यू ग्रोथ अच्छा रहा है। कंपनी के कंपोनेंट डिवीजन में 13.5 फीसदी और टूल रूम डिवीजन में 51 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। कंपनी के आय में कंपोनेंट डिवीजन से 91.3 फीसदी, टूल डिवीजन से 6.4 फीसदी और बस डिवीजन से 2.3 फीसदी बढ़त रही है। चौथी तिमाही में कंपनी की आय 11 फीसदी और मुनाफा 39 फीसदी बढ़ा है।


कंपनी सिटी बस के कारोबार में है। जेबीएम ऑटो ने 2013 में इटली की कंपनी से करार किया है। कंपनी इतालवी कंपनी के साथ लग्जरी बस बनाने का काम करती है। फरीदाबाद के पास कोसी में कंपनी के प्लांट है। कंपनी की 2000 बस बनाने की शुरुआती क्षमता है। कंपनी को 2015 में सिटी लाइफ के नाम से सीएनजी बस के लिए मंजूरी मिली थी।


कंपनी ने मार्च 2015 से कमर्शियल प्रोडक्शन शुरू किया है। वहीं 2015 में ही पोलैंड की सोलारेस बस एंड कोच के साथ जेवी भी किया है। ये जेवी कंपनी ने इलेक्ट्रिक बस के लिए किया है। कंपनी ने ऑटो एक्सपो 2016 में देश की पहली इलेक्ट्रिक बस लॉन्च की। वहीं ऑटो एक्सपो 2016 में ही डीजल वैरिएंट भी उतारा।
 
वित्त वर्ष 2017 में कंपनी की आय 1518 करोड़ रुपये से बढ़कर 1790 करोड़ रुपये रही है। वहीं एबिटडा 197 करोड़ रुपये से बढ़कर 202 करोड़ रुपये रहा है और मुनाफा 52 करोड़ रुपये से बढ़कर 66 करोड़ रुपये रहा है। कंपनी की 5 साल की सीएजीआर ग्रोथ आय 14 फीसदी और सीएजीआर ग्रोथ मुनाफा 20 फीसदी रहा है।


कंपनी को बस प्रोजेक्ट से अगले 4 सालों में 1800 करोड़ रुपये आय की उम्मीद है। स्मार्ट सिटी, हाईवे कंस्ट्रक्शन से कंपनी को फायदा मिल सकता है। मेक इन इंडिया से ऑटो एंसिलरी की बिक्री बढ़ सकती है और बेहतर मॉनसून से रूरल डिमांड भी बढ़ती नजर आ सकती है।


कंपनी का डेट/इक्विटी रेश्यो वित्त वर्ष 2015 में 0.79 गुना, वित्त वर्ष 2016 में 0.64 गुना और वित्त वर्ष 2017 में 0.57 गुना हुआ है। कंपनी के पास 1100 करोड़ रुपये का मार्केट कैप है और प्रोमोटर के पास कंपनी की 62 फीसदी हिस्सेदारी है।