Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जीएसटी के खिलाफ कारोबारी, देशभर में विरोध

प्रकाशित Thu, 15, 2017 पर 13:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कपड़ा और अनाज पर ज्यादा जीएसटी लगाए जाने के खिलाफ कपड़ा और अनाज व्यापारी अब सड़कों पर उतर गए हैं। आज देश भर में कपड़ा व्यापारियों ने विरोध के तौर पर एक दिन का बंद कर रखा है। मुंबई और अहमदाबाद के कपड़ा बाजार में दुकानों पर आज ताले लगे हैं। कई जगहों पर व्यापारी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। जीएसटी को लेकर गुजरात के कपड़ा कारोबारियों में खासी नाराजगी देखी जा रही है। जीएसटी के विरोध में गुजरात 40 टेक्सटाइल एसोसिएशन ने मार्केट बंद का एलान किया है। इसी के तहत आज उंझा, सौराष्ट्र जैसे कई छोटे बड़े मार्केट बंद हैं। कपड़े से जीएसटी हटाने की मांग करते हुए कारोबारियों का कहना है कि केवल उत्पादक से ही जीएसटी वसूला जाना चाहिए। इस विरोध में कपड़े के थोक, खुदरा व्यापारी भी शामिल हैं और अहमदाबाद, सूरत के टेक्सटाइल बाजार बंद है।


इसके साथ ही दिल्ली में अनाज व्यापारी भी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मुंबई और अहमदाबाद में कपड़ा व्यापारी जहां ज्यादा जीएसटी का विरोध कर रहे हैं वहीं अनाज व्यापारियों ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अनाज व्यापारी जीएसटी वापस लेने की मांग कर रहे हैं। अहमदाबाद में कपड़ा दुकानें बंद हैं। कुल 40 छोटे बड़े एसोसिएशन बंद में शामिल हैं। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह से कपड़ा दुकानों और फैक्ट्रियों पर ताले लगे हैं। 


वहीं मुंबई में भी कपड़ों पर ज्यादा जीएसटी से व्यापारी नाराज हैं। क्लॉथ मर्चेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन ने सरकार ने कपड़ों पर से जीएसटी हटाने की मांग की है। मुंबई में विरोध में शामिल बीजेपी विधायक राजपुरोहित ने कहा कि पिछले 30 सालों से व्यापारियो के साथ रहता हूं और इनकी मांग है कि जीएसटी कपड़ो पर नहीं लगना चाहिए और मेरा भी यही मानना है। कपड़े बाजार के साथ पूरा बीजेपी का समर्थन है।


मध्यप्रदेश में भी कारोबारियों ने जीएसटी का विरोध किया है। राज्य में अनाज, दाल, कपड़ा और मेटल मार्केट में कारोबार पर बंद पड़ा है। मध्यप्रदेश और गुजरात के कई इलाकों में पावर लूम जीएसटी के विरोध में कपड़ा अनाज और मेटल कारोबारियों ने आज बंद किया है। मध्यप्रदेश के पावरलूम कारोबारियों की मांग है कि सरकार इस उद्धोग पर से जीएसटी वापस ले।