Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

एयर इंडिया के विनिवेश का मसौदा तैयारः सूत्र

प्रकाशित Thu, 15, 2017 पर 14:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एयर इंडिया को पूरी तरह बेचने का मसौदा तैयार कर लिया गया है। सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक एयर इंडिया खरीदने के लिए विदेशी कंपनियों को भी बोली लगाने की छूट मिल सकती है। विनिवेश विभाग ने इसके लिए कैबिनेट ड्राफ्ट नोट जारी कर दिया है।


सूत्रों का कहना है कि एयर इंडिया के विनिवेश के लिए 4 कदम उठाए जा सकते हैं। पहले विकल्प के तहत एयर इंडिया में स्ट्रैटेजिक विनिवेश के जरिए सरकार 100 फीसदी हिस्सा बेच सकती है। 2 चरणों में नीलामी के जरिए विनिवेश का प्रस्ताव है। इसके अलावा कंपीटिटिव बिडिंग के जरिए हिस्सा बेचने का प्रस्ताव है। एयर इंडिया के विनिवेश में विदेशी निवेशकों और कंपनी को भी हिस्सा लेने की छूट संभव है। हालांकि तय समय तक एयर इंडिया ब्रांड को कायम रखा जा सकता है।


सूत्रों के मुताबिक एयर इंडिया के विनिवेश की योजना के तहत कंपनी की मुनाफे वाली 3 सब्सिडियरी को अलग से बेचा जा सकता है। घाटे वाली सब्सिडियरी का अलग से विनिवेश किया जा सकता है। होटल कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया को बंद करने का प्रस्ताव है। ये भी प्रस्ताव है कि एयर इंडिया की बैलेंस शीट मजबूत की जाए और विनिवेश विभाग ट्रांजैक्शन एडवाइजर नियुक्त करे।


एक विकल्प और ये भी है कि एयर इंडिया के रियल एस्टेट की अतिरिक्त संपत्ति को अलग से बेचा जाए। साथ ही दूसरी कीमती संपत्ति (आर्टफैक्ट्स) को अलग से बेचा जाए। इस योजना के जरिए एयर इंडिया की संपत्ति बेचकर देनदारी चुकाने का प्रस्ताव है।


सूत्रों का कहना है कि 2 हफ्ते में एयर इंडिया के विनिवेश का प्रस्ताव कैबिनेट के सामने आ सकता है। इस प्रस्ताव को मंजूरी के 1 साल के भीतर एयर इंडिया को बेचने की तैयारी है। एयर इंडिया के विनिवेश पर नजर रखने के लिए एक कमिटी बनाई जाएगी।


सूत्रों की मानें तो जो मसौदा तैयार है उसमें कहा गया है कि विनिवेश के बाद एयर इंडिया के कर्ज का निपटारा सही हो सके और कुछ संपत्ति को शेल कंपनी के हवाले किया जाए। मुनाफे वाली 3 सब्सिडियरी में विनिवेश पर भी फैसला किया जाए। नीलामी में कौन-कौन भाग ले सकता है ये भी तय किया जाए।