Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

स्टार हेल्थ इंश्योरेंस की पहरेदार से शिकायत

प्रकाशित Mon, 19, 2017 पर 18:05  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सीएनबीसी-आवाज़ पर आने वाला टीवी का सबसे बड़ा कंज्यूमर शो पहरेदार ग्राहक की आवाज़ बुलंद करता है और लड़ता है ग्राहक के हक की लड़ाई। जब कंपनियों की मनमानी के सामने कंज्यूमर झुकने लगता है, तब उनके हक की आवाज़ लेकर पहरेदार करता है कंपनी से सवाल और कंपनी को देना होता है जवाब।


पहरेदार के जरिए उन लोगों को इंसाफ मिल पाता है जो कंपनियों के अड़ियल रवैये के चलते उन जरूरी सर्विसेज से महरूम रह जाते हैं जो उनका हक है। पहरेदार उन कंपनियों को भी सबक सिखाता है जो वादे तो कर देती हैं लेकिन उन्हें पूरे करने में आनाकानी करती हैं।


हम सभी हेल्थ इंश्योरेंस इसीलिए लेते हैं कि जब भी बुरे वक्त में कोई करीबी या हम खुद अस्पताल में ईलाज के लिए पहुंचे तो पैसे की कोई दिक्कत ना हो। लेकिन, जब हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां कोई ना कोई बहाना ढूंढ़कर आपके क्लेम को रिजेक्ट करना चाहती है, तो आप क्या करेंगे।


दिल्ली की पूजा रैना पिताजी का सेप्टिक का ऑपरेशन होना था, लेकिन शुरुआत में ही स्टार हेल्थ ने कैशलेस सर्विस से इनकार कर दिया। कंपनी ने कहा कि आर्थराइटिस के इलाज का खर्च नहीं दिया जाएगा। कंपनी को समझाया गया कि सेप्टिक और आर्थराइटिस में संबंध नहीं है। इसके बाद कंपनी ने 75000 रुपये ट्रांसफर किए और कंपनी ने कहा कि बाकी खर्च पर फैसला बिलिंग के बाद होगा।


ऑपरेशन के बाद सारे कागजात सितंबर 2016 तक जमा हो गए थे, लेकिन कंपनी ने नवंबर अंत तक कोई जवाब नहीं दिया। जब ईमेल किए गए तो सिर्फ आश्वासन दिया गया कि क्लेम प्रोसेस में है। पूजा रैना का कहना है कि स्टार हेल्थ के रवैये से काफी निराश हुई और कॉरपोरेट ऑफिस से भी मदद नहीं मिल रही थी। हालांकि पहरेदार के दखल के बाद कंपनी ने दोबारा मामले में दिलचस्पी ली और कम्युनिकेशन की गड़बड़ी के लिए माफी मांगी। यही नहीं स्टार हेल्थ ने 16,738 रुपये का रिफंड भी किया।