Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जी20: पीएम मोदी ने उठाया आतंकवाद का मुद्दा

प्रकाशित Fri, 07, 2017 पर 16:11  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

3 दिन की इजरायल यात्रा पूरी करने के बाद पीएम मोदी आज जर्मनी पहुंचे। पीएम मोदी ने ब्रिक्स देशों के जी-20 सम्मेलन में हिस्सा लिया और आतंकवाद का मुद्दा भी उठाया। इसके अलावा पीएम मोदी ने सबसे बड़े कर सुधार जीएसटी के बारे में भी बातचीत की। अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए किए जा रहे सुधारों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जीएसटी से पूरा भारत एक मार्केट बन जाएगा। हमारे फैसले से वैश्विक परिस्थितियों पर बेहतर असर होगा और व्यापार में आसानी होगी। प्रधानमंत्री ने ब्रिक्स देशों की बैठक में संरक्षणवादी नितियों पर भी सवाल उठाया। पीएम मोदी ने कहा कि मौजूदा समय में दुनिया को ब्रिक्स लीडरशिप की जरूरत है। बता दें कि जर्मनी के हैम्बर्ग शहर में जी20 शिखर सम्मेलन औपचारिक तौर पर शुरू हो गया है। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल दुनिया भर के शीर्ष नेताओं का स्वागत कर रही हैं। मर्केल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाथ मिलाकर उनका जी20 सम्मेलन में बतौर मेजबान स्वागत किया। इसके साथ ही ट्रंप, पुतिन और चीनी राष्ट्रपति से भी एंजेला मर्केल ने मुलाकात की।


थोड़े ही समय के लिए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिले। जी20 सम्मेलन के दौरान बिक्स देशों की बैठक के वक्त ये बातचीत हुई। इस दौरान जिनपिंग ने आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई और आर्थिक तरक्की की तारीफ की। ब्रिक्स सम्मेलन में अपने भाषण में मोदी ने कहा कि साउथ एशिया में एक देश आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है। जाहिर है इशारा पाकिस्तान की तरफ था। अपने संबोधन में मोदी ने जीएसटी लागू होने को बड़ी कामयाबी बताया। बता दें कि जर्मनी के हैम्बर्ग शहर में जी20 शिखर सम्मेलन औपचारिक तौर पर शुरू हो गया है। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने मोदी से हाथ मिलाकर उनका जी20 सम्मेलन में स्वागत किया।


इस बीच सभी देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने एक साथ फोटो भी खिंचाई। शिखर सम्मेलन के लिए जुटने वाले जी-20 नेताओं के बीच आपस में कई मुद्दों पर मतभेद जारी हैं, जिनमें जलवायु परिवर्तन और व्यापार जैसे मुद्दे शामिल हैं। जर्मन चांसलर एंगेला मर्कल ने पिछले हफ्ते कहा था कि जी-20 में पेरिस जलवायु संधि विषय चर्चा के केंद्र में रहेगा, जिससे अमरीका पहले ही हाथ खींच चुका है।


उधर पहले गीदड़ भभकी और अब आर्थिक रिश्तों की दुहाई। चीन सरकार का जो अखबार ग्लोबल टाइम्स पिछले कई दिनों से भारत को सबक सिखाने की धमकी दे रहा था उसका अब कहना है कि भारत चीन के ज्यादा करीब है। जी20 समिट के बीच इस चीनी अखबार ने लिखा है कि भारत भले ही अमेरिका से नजदीकियां बढ़ा रहा है लेकिन उसका भला चीन के साथ रहने में है। ग्लोबल टाइम्स ने याद दिलाया है कि भारत में मेक इन इंडिया का जोर है जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप मेक इन अमेरिका पर जोर दे रहे हैं। ऐसे में  भारत में निवेश के लिए चीन की विकल्प है। अखबार के मुताबिक चीन का साथ भारत के लिए अमेरिका से कहीं ज्यादा फायदेमंद है। आपको बता दें कि चीन सिक्किम की सीमा से भारत को सेना हटाने के लिए लगातार दबाव डाल रहा है।