Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आंत्रप्रेन्योरः कैसा रहा रिसॉर्ट मैनेजमेंट का करोबार

प्रकाशित Sat, 08, 2017 पर 12:28  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

एक अच्छा ब्रेक कभी-कभी एक वरदान की तरह होता है, जो आपको मौका देता है काम के स्ट्रेस से दूर रहने का और साथ ही पूरी तरह रिजूवनेट होने का। परंपरागत वेकेशन प्लानिंग में अलग-अलग अनुभवों और नई जगहों का ट्विस्ट डाल भारत की ट्रैवल इंडस्ट्री में नई जान फूंक रहे है स्टार्टअप्स। दिल्ली की अदिति बलबीर ने भी अपने ट्रैवलिंग के शौक को कारोबार में ढाला हैं अपनी कंपनी वी रिसॉर्ट के साथ। बजट होटल एग्रीगेटर के तौर पर शुरू हुआ वी रिजॉर्ट का सफर आज प्रीमियम डेस्टीनेशन के लिए मशहूर हैं। जानिए कैसे एक वेंचर कैपिटल फर्म की नौकरी छोड़ अपने सपने को साकार किया अदिती बलबीर ने।


परिवार के लिए वेकेशन प्लान करने की जिम्मेदारी हिमाली पर होती है, और इनकी कोशिश रहती है हर बार किसी ऐसी जगह को चुनना जो आम ट्रेवल डेस्टीनेशन्स से हटके हो। इसबार हिमाली ने दोस्तों के सुझाव पर आजमाया राजस्थान, सरिस्का का वी रिजॉर्ट।


वी रिजॉर्ट है अदिति बलबीर का स्टार्टअप। घुमने-फिरने का शौक रखने वाली अदिति, ट्रैवलिंग और वेकेशन को यादगार बनाने के लिए एक अच्छी स्टे लोकेशन के मायने बखूबी जानती हैं। इसलिए अदिति ने 2011 में वी रिजॉर्ट की शुरूआत की। जो देश के ऑफ बीट लोकेशन्स पर अच्छे और बजट स्टे ऑप्शन्स मुहैय्या करता है।  


अदिति ने महसूस किया सिर्फ होटल तक ग्राहकों को पहुंचना ही काफी नहीं है। ऐसे छोटे छोटे रिजॉर्ट और होटल को टूरीस्ट अट्रैक्शन बनाना और उनका रख रखाव करना भी उतना ही जरूरी है। इसलिए 2014 में वी रिजॉर्ट का बिजनेस मॉडल एक होटल एग्रीगेटर से बदलकर एक रिजॉर्ट मैनेजमेंट और मार्केटिंग बिजनेस में बदला।


वी रिजॉर्ट भारत में ऑफ बीट जगहों पर छोटे रिजॉर्ट और बुटीक होटल के मालिकों के साथ मिलकर काम करता है। कंपनी रिजॉर्ट या होटल प्रॉपर्टी को मैनेजमेंट, मार्केटिंग और सेल्स की सर्विस देती है। मैनेजमेंट के लिए स्थानीय लोगों की ही मदद ली जाती है। इससे ट्रैवलर्स को स्थानीय पर्यावरण का लुत्फ उठाने का मौका मिलता है और साथ ही स्थानिकों को रोजगार। वी रिजॉर्ट का  बिजनेस मॉडल प्रॉपर्टी के मालिक के साथ रेवेन्यू शेयरिंग पर काम करता है।


इस तरह के बिजनेस की शुरुआत के लिए कम से कम 1 करोड़ रुपये के शुरूआती निवेश की जरूरत है। निवेश का अधिकतर हिस्सा प्रॉपर्टी के रख रखाव, स्टाफ की ट्रेनिंग जैसे कामों में जाता है। जैसे-जैसे प्रॉपर्टीज बढ़ती जाती है, निवेश की जरूरत भी बढ़ती है। वी रिजॉर्ट को मुंबई के सीडफंड से 2 मिलियन डॉलर की फंडिंग मिली। कंपनी ने जून में सीडफंड और आरबी इंटरनेशनल से 4 मिलियन डॉलर की थर्ड राउंड फंडिंग भी जुटा ली है।


वी रिजॉर्ट 15 राज्यों में 70 से ज्यादा रिजॉर्ट मैनेज कर रही है। कंपनी आने वाले सालों में अपना बिजनेस 1000 से ज्यादा लोकेशन तक पहुंचना चाहती है। साथ ही साउथ ईस्ट आशियाई देशों में भी रिजॉर्ट मैनेजमेंट की शुरूआत करना चाहती है। 


टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री में एक तेज़ ग्रोथ देखने को मिली है। सरकार भी टूरिज्म सेक्टर को बढ़ाने के लिए निवेश और कई दूसरे प्रोग्राम्स पर जोर दे रही है। ऐसे में वी रिजॉर्ट जैसे स्टार्टअप्स के लिए खुद का कारोबार बढ़ाने के लिए बेहतरीन वक्त है।