Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: डिजिटल बैंक फ्रॉड पर ग्राहकों को मिली राहत

प्रकाशित Mon, 10, 2017 पर 18:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आपकी वित्तीय सुरक्षा का सीएनबीसी-आवाज़ रखता है पूरा ख्याल। योर मनी का मकसद है आपको सही मायने में आर्थिक आजादी देना, जिसके लिए हम ना सिर्फ निवेश के गुर सिखाते हैं बल्कि आपको जागरूक भी रखते हैं। आज भी हम आपको बताएंगें ऑनलाइन धखाधडी होने पर कैसे आप अपने नुकसान से बच सकते हैं। कैसे अब ऑनलाइन ग्राहकों के हाथ में आ गयी और ताकत। साथ ही बताएंगे कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करना चाहिए या नहीं। ये सब बताने के लिए सीएनबीसी-आवाज के साथ हैं ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के डायरेक्टर पंकज मठपाल


सबसे पहले आपको बता दें कि डिजिटल बैंक फ्रॉड पर ग्राहकों को बड़ी राहत मिली है। अब आपको अपने साथ हुए किसी डिजिटल बैंक फ्रॉड के बारे में 3 दिन के भीतर बैंक को बताना होगा। बैंक फ्रॉड की रकम की भरपाई करेंगे। अगर 4 से 7 दिन में जानकारी दी तो पूरी भरपाई नहीं होगी। बैंक सिर्फ 25,000 रुपये तक की भरपाई करेंगे। 7 दिन के बाद जानकारी देने पर भरपाई बैंक पर निर्भर करेगी।


जानकारों का कहना है कि साइबर फ्रॉड से बचने के लिए ऑनलाइन भुगतान करते वक्त वेबसाइट पर पीसीआई-डीएसएस का सर्टिफिकेट देखें। मोबाइल ऐप से भुगतान के वक्त पेसेक का लोगो देखें। पेसेक के लोगों पर क्लिक करने से वैधता सर्टिफिकेट दिखेगा। अनजान व्यक्ति के ई-मेल में आए लिंक और अटैचमेंट को ना खोलें। सिस्टम, मोबाइल में एंटी वायरस, स्पैम फिल्टर, एंटी स्पायवेयर लगाएं। अपने अकाउंट बैलेंस को नियमित रूप से देखते रहें। अपने लॉग इन और सिक्योरिटी कोड किसी को ना बताएं। ऑनलाइन बैंकिंग का यूजर आईडी और पासवर्ड पेचीदा बनाएं। पब्लिक वाई-फाई पर मोबाइल वॉलेट, बैंकिंग ऐप ना खोलें।