Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

टूटेंगी फ्लाइट पाथ में आनेवाली इमारतें!

प्रकाशित Mon, 17, 2017 पर 18:39  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मुंबई में डीजीसीए ने आदेश जारी करते हुए कहा कि वह मुंबई में फ्लाइट पाथ यानि वह रास्ता जहां से विमान टेक ऑफ या लैंड करते है उसके रास्ते में आनेवाली बिल्डिंगों को छोटा किया जाएं। आदेश में 1 या 2 नहीं बल्कि 70 ऐसी बिल्डिंग है जिनके ऊपरी मंजिल को तोड़ने या छोटा करने का आदेश जारी किया गया है।


डीजीसीए ने विले पार्ले, सांताक्रूज, सहित घाटकोपर में 70 इमारतों को छोटा करने का आदेश दिया है। डीजीसीए ने अपने आदेश में कहा कि अगस्त के अंत तक यह इमारतें छोटी की जाएं। इन 70 इमारतों में से 45 नई इमारतों के पास एएआई का एनओसी दिया गया है। हालांकि इन बिल्डिंगो को गलत तरीके से एनओसी हासिल करने की बात कहीं जा रही है। दरअसल, डीजीसीए ने हाईकोर्ट के दखल के बाद यह आदेश जारी किया है।


बता दें कि मुंबई में फ्लाइट पाथ 70 इमारतें आ रही हैं जिन्हें छोटी करने का आदेश जारी किया गया है। कुछ इमारतें 50 साल से ज्यादा पुरानी है। इनमें से ज्यादातर इमारतों के पास हाइट क्लियरेंस सर्टिफिकेट है। यह  सर्टिफिकेट उस वक्त उपयुक्त एजेंसियों से मिला था। जिन्हें एएआई ने 1978 से नो ऑब्जेशन सर्टिफिकेट देना शुरु किया था।


डीजीसीए के आदेश पर घर मालिकों ने एतराज जताया है। घर मालिकों के मुताबिक 60 के दशक में मुंबई एयरपोर्ट बना है। पिछले 50 सालों से इमारतों पर एतराज नहीं जताया गया। साल 2016 में घर मालिकों के पास डीजीसीए का पहला नोटिस आया। इससे करीब 1000 से ज्यादा लोग बेघर होगें। 


जुलाई 2014 में बॉम्बे हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल किया गया था। अगस्त 2014 में पीआईएल पर एएआई, एमआईएएल, डीजीसीए ने अपने जवाब भेजे और अगस्त 2016 में बॉम्बे हाईकोर्ट ने डीजीसीए से गतिरोधों की सूची मांगी। जून 2017 में डीजीसीए ने हलफनामा दाखिल करते हुए 35 इमारतों को छोटा करने का आदेश जारी किया गया।