Moneycontrol » समाचार » चर्चित स्टॉक खबरें

हफ्ते का आखिरी कारोबारी दिन, फोकस में रहेंगे ये शेयर

प्रकाशित Fri, 11, 2017 पर 07:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

शेयरों की हर हलचल पर पैनी नजर रखकर अपने निवेश को सुरक्षित जरूर किया जा सकता है। यहां हम बता रहे हैं ऐसे शेयर जो रहेंगे आज खबरों में और जिन पर होगी बाजार की नजर।


जे कुमार इंफ्रा / प्रकाश इंडस्ट्रीज


आज से जे कुमार इंफ्रा और प्रकाश इंडस्ट्रीज में फिर से ट्रेडिंग शुरू होगी।


यूनियन बैंक


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में यूनियन बैंक का मुनाफा 29.9 फीसदी घटकर 116.6 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में यूनियन बैंक का मुनाफा 166.3 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में यूनियन बैंक की ब्याज आय 6.7 फीसदी बढ़कर 2243 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में यूनियन बैंक की ब्याज आय 2102 करोड़ रुपये रही थी।


तिमाही आधार पर पहली तिमाही में यूनियन बैंक का ग्रॉस एनपीए 11.2 फीसदी से बढ़कर 12.6 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर पहली तिमाही में यूनियन बैंक का नेट एनपीए 6.6 फीसदी से बढ़कर 7.5 फीसदी रहा है।


आईओबी


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में आईओबी को 499.1 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में आईओबी को 1450.5 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।


तिमाही आधार पर पहली तिमाही में आईओबी का ग्रॉस एनपीए 22.4 फीसदी से बढ़कर 23.6 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर पहली तिमाही में आईओबी का नेट एनपीए 14 फीसदी से बढ़कर 15 फीसदी रहा है।


यूनाइटेड ब्रुअरीज


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में यूनाइटेड ब्रुअरीज का मुनाफा 10 फीसदी बढ़कर 161.9 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में यूनाइटेड ब्रुअरीज का मुनाफा 147.1 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में यूनाइटेड ब्रुअरीज की आय 17.4 फीसदी बढ़कर 3810 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में यूनाइटेड ब्रुअरीज की आय 3244.6 करोड़ रुपये रही थी।


इंडो काउंट


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में इंडो काउंट का मुनाफा 47 फीसदी घटकर 31.9 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में इंडो काउंट का मुनाफा 60.3 करोड़ रुपये रहा था।


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में इंडो काउंट की आय 16.1 फीसदी घटकर 399.4 करोड़ रुपये रही है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में इंडो काउंट की आय 476.1 करोड़ रुपये रही थी।


आईएफसीआई


वित्त वर्ष 2018 की पहली तिमाही में आईएफसीआई को 276.9 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2017 की पहली तिमाही में आईएफसीआई को 110.3 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। अप्रैल-जून तिमाही में आईएफसीआई का ब्याज घाटा 78.3 करोड़ रुपये रहा है।


तिमाही आधार पर पहली तिमाही में आईएफसीआई का ग्रॉस एनपीए 31.9 फीसदी से बढ़कर 34.6 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर पहली तिमाही में आईएफसीआई का नेट एनपीए 27 फीसदी से बढ़कर 28.9 फीसदी रहा है।